बीरभूम

बीरभूम

पश्चिम बंगाल में बसा एक जिला बीरभूम, एक ऐतिहासिक खूबसूरत शहर है| पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले के बीच एक बहुत ही प्रसिद्ध पर्यटक स्थल है| जो संस्क्रती से सम्रध शहर है यहाँ की भूमि पर पर्यटन और धार्मिक दोनों प्रकार के पर्यटन के स्थान है जो बीरभूम में मोज मस्ती करने के लिए एक से बढ़कर एक बेस्ट प्लेस है और यहाँ पर घूमने के लिए पर्यटकों के लिए धार्मिक स्थल भी है| बीरभूम का पर्यटन बहुत ही निराला मनोरम दृश्यों से भरा होता है लोग यहा पे अपने फेमिली के साथ घूमने आते है| बीरभूम वन्‍यजीव अभयारण्‍य, यहां आने वाले पर्यटकों के लिए प्रसिद्ध आकर्षण स्‍थल है। प्रकृति प्रेमी और जीवप्रेमी लोगयहां आकर जैकॉल, लोमड़ी, स्‍पॉटेड हिरन, जैसे जानवरों को देख सकते है| बीरभूम समृद्ध लोक संस्कृति से समृद्ध है और यह कई सांस्कृतिक समूहों जैसे कि कलाकारों का भी घर है पौष मेला एक उल्लेखनीय आकर्षण है जो इस देश की विभिन्न दिशाओं से संगीत के प्रति उत्साही और लोक गायक को लुभाता है। और यहा के स्‍थानीय लोग कृषि करते है। पर्यटक, बीरभूम में कई बड़े - बड़े फार्मलैंड को देख सकते है इसके अलावा पर्यटक कई धातु और मिट्टी के बर्तन बनते भी देख सकते है बीरभूम में घूमने के लिए अक्‍टूबर के बाद, मौसम अच्छा होता है|

'बहादुरों की भूमि' के रूप में कहा जाता है, बीरभूम एक ऐसा देश था जहां कई बहादुर राजाओं ने शासन किया था। इस जगह का ऐतिहासिक महत्व उन सभ्यताओं के अवशेषों से स्पष्ट है जो यहाँ रहते थे। लाल मिट्टी की भूमि में कुछ प्रसिद्ध पर्यटन स्थल हैं।

पश्चिम बंगाल में बसा एक जिला बीरभूम, जो राज्य के इतिहास में बहुत महत्व रखता है। जो बीरभूम अपने लाल मिट्टी के घरों के लिए जाना जाता है। और जिसके जिले में सबसे प्रमुख स्थान शान्तिनिकेतन है। इसके अलावा तारापीठ, बकेरेश्वर, कंकालीताल, लबपुर, नानूर, जोयदेव केंदुली, दुबराजपुर, नलहटी, पथरचपुरी, राजनगर, हेतमपुर और कलेश्वर शिव मंदिर आदि अन्य स्थानों पर आपको काफी मात्रा में पर्यटक मिल जायेंगे।

बीरभूम क्यों जाए

तारापीठ, बकेरेश्वर, कंकालीताल, लबपुर, नानूर, जोयदेव केंदुली, दुबराजपुर, नलहटी, पथरचपुरी, राजनगर, हेतमपुर और कलेश्वर शिव मंदिर

बीरभूम के पर्यटन, दर्शनीय स्थल

  1. शांति निकेतन
  2. दुबराजपुर
  3. हेतमपुर
  4. फुल्लारा
  5. बल्लभपुर वन्यजीव अभयारण्य
  6. नंदिकेश्वरी का मंदिर
  7. कंकाली पिठ
  8. तारापीठ
  9. बकेरेश्वर
  10. कंकालीताल
  11. लबपुर
  12. नानूर
  13. जोयदेव केंदुली
  14. दुबराजपुर
  15. नलहटी
  16. पथरचपुरी
  17. राजनगर
  18. हेतमपुर और कलेश्वर शिव मंदिर