सारनाथ

सारनाथ

सारनाथ उत्तर प्रदेश राज्य बौद्ध तीर्थ यात्रा के लिए एक बहुत ही पवित्र स्थल है| सारनाथ राज्य की घनी आबादी के बीच एक शांत और आध्यत्मिक शहर है जो कई बौद्ध स्तूपों संग्रहालयों प्राचीन स्थलों और खूबसूरत के साथ ऐतिहासिक शहर है| वाराणसी से सिर्फ 10 किलोमीटर दूर सारनाथ हमेशा पर्यटकों से भरा रहता है| यह शहर बौद्ध, जैन और हिंदुओं के लिए एक आदर्श तीर्थ स्थल है। सारनाथ बौद्धों का एक प्रमुख तीर्थ स्थान है जो ऐतिहासिक मंदिरों वास्तु चमत्कारों के साथ पूरी तरह शांत नजर आता है| यह वह जगह है जहां भगवान बुद्ध ने अपने पहले धर्मो पदेश का प्रचार किया था| सारनाथ एक तीर्थ स्थल होने के साथ ही लोकप्रिय पर्यटक आकर्षण रहा है| यह अपने सांस्कृतिक महत्व के साथ साथ रहस्यो के लिए भी जाना जाता है|

भारत में एक महत्वपूर्ण 'बौद्ध तीर्थस्थल' के रूप में प्रतिष्ठित, यह जैन धर्म के विकास का भी गवाह है। वास्तव में, 11 वें त्रितनकारा श्रेयांशनाथ का जन्म पास के एक देहाती गाँव में हुआ था, जो एक किमी दूर स्थित था। चीनी भिक्षु हुसैन त्सांग के यात्रा वृत्तांतों में 5 वीं शताब्दी के दौरान 3000 भिक्षुओं और 30 मठों की उपस्थिति का पता चला।

सारनाथ के पर्यटन, दर्शनीय स्थल

  1. चौखंडी स्तूप
  2. अशोक स्तंभ
  3. सारनाथ
  4. थाई मंदिर
  5. तिब्बती मंदिर
  6. सारनाथ
  7. पुरातत्व संग्रहालय
  8. बुद्ध पूर्णिमा

कैसे पहुंचे सारनाथ


सड़क मार्ग द्वारा

वाराणसी से सीधे बसें चलती हैं। यात्री शहर के भीतर कम दूरी तय करने के लिए ऑटो-रिक्शा या रिक्शा ले सकते हैं।

रेल मार्ग द्वारा

वाराणसी जंक्शन (6 किमी) लगभग सभी प्रमुख भारतीय शहरों से जुड़ा हुआ निकटतम रेलहेड है।

हवाई मार्ग द्वारा

निकटतम हवाई अड्डा, गंतव्य से लगभग 24 किमी दूर वाराणसी में है।