कुशीनगर

कुशीनगर

"स्तूप और मंदिरों का शहर" / प्रसिद्ध बौद्ध तीर्थ स्थलो मे से एक उत्तर प्रदेश का कुशीनगर था| कुशीनगर को कसया या कुसीनारा के नाम से भी जाना जाता है| उत्तर प्रदेश के स्तुपो से मंदिरों तक एक यह आदर्श स्थान है| पवित्र स्थलो में से कुशीनगर को कुशीनारा भी कहा जाता था| ऐसा माना जाता है कि कुशीनगर में भगवान बुद्ध ने मोक्ष या महापरीनिर्वाण प्राप्त किया था| बौद्धो के पवित्र मंदिरो में से एक माना जाता है| यह वह स्थान है जहाँ भगवान बुद्ध ने महापरिनिर्वाण प्राप्त किया था| बुद्ध पूर्णिमा के दौरान बौद्ध धर्म के अनुष्ठानो निर्वाण मंदिर है| यह इस मंदिर के पास जहाँ बुद्ध का निधन हुआ था| उत्तर प्रदेश के अपने दौरों पर आप रामभरत स्तूप देख सकते है| बौद्धो के पवित्र मंदिरो में से एक माना जाता है, जहाँ भगवान बुद्ध ने महापरीनिर्वाण प्राप्त किया था| बुद्ध पूर्णिमा के दौरान कुशीनगर में बौद्ध धर्म के अनुष्ठानो में भाग लेने के लिए पूरे भारत से कई यात्री कुशीनगर आते है| एक अन्य प्रमुख पर्यटक आकर्षण निर्वाण मंदिर है| वट थाई मंदिर यहाँ मठकौत मंदिर भी कुशीनगर के महत्वपूर्ण पर्यटन स्थलों में से एक है| जापानी मंदिर सुन्दर मंदिरों में से एक है और शिष्यो के लिए अपने दौरो पर आपको भगवान बुद्ध की अष्टधातु प्रतिमा तीर्थ स्थलो में से एक है| एक चीनी मंदिर भी है जो भक्तो को अपनी विशिष्ट और उत्तम वास्तुकला के लिए आकर्षित करता है| कुशीनगर में एक मठकौत मंदिर है जहाँ आप भगवान बुद्ध की काले पत्थर की छवि देख सकते है।रामगढ़ ताल तारामंडल और शहर के गोरखनाथ मंदिर में जल क्रीडा परिसर भी देखने लायक है|

कुशीनगर में करने वाली बातें

बिरला मंदिर

परिनिर्वाण स्तूप

रामभर स्तूप

ध्यान पार्क

मकुटबन्धना कुशीनगर

माथुकर तीर्थ

कुशीनगर संग्रहालय

जैपनीज गार्डेन

जापानी मंदिर .|

कुशीनगर क्यों जाए

मंदिरो , स्तूप |

कुशीनगर घूमने का सबसे अच्छा समय

बौद्धों के लिए प्रमुख तीर्थस्थलों में से एक, कुशीनगर मे एक सुंदर स्थान है। मौसम के अनुकूल होने पर जगह की यात्रा करने का सबसे अच्छा समय नवंबर से मार्च तक है।