सवाई माधोपुर

सवाई माधोपुर

राजस्थान के प्रसिद्ध शहरो मे से एक एक सवाई माधोपुर को अरावली पर्वतमाला और विंध्याचल श्रेणी के बीच और कोटा और बीकानेर के बीच भी रखा गया है| यह वन्यजीव प्रेमियो के लिए सबसे अच्छी जगह है| क्योकि इसके राष्ट्रीय उद्यान के लिए शहर प्रसिद्ध है| जिसे रणथम्भौर राष्ट्रीय उद्यान के रूप मे जाना जाता है| हालाँकि अपने बाघो के लिए प्रसिद्ध, यह जंगली जानवरो और पक्षियो की एक समर्ध आबादी है| इस जगह घूमने लायक आकर्षण भी है राठंभोर किला, गणेश मंदिर, जोगी महल और राज बाग तालाब, मिलाक तालाब और पदम तालाब।यह क्षेत्र रणथंभौर नेशनल पार्क और रणथंभौर किले के लिए प्रसिद्ध है। सवाई अमरूद के फल बहुत प्रसिद्ध है। रणथंभौर पार्क बाघों के जलाशयों में से एक है। यह कई वन्यजीव प्रजातियाँ और पक्षियो के लिए श्रधांजलि है| यहाँ बाघ, नीलगाय, तेंदुएं, चीतल, सुस्त भालू और कई और जानवर मिल सकते है| जंगल सफारी एक प्रसिद्ध आकर्षण है| करौली, त्रिनेत्र गणेश मंदिर, श्री महावीरजी मंदिर, सिवाड़, श्री महावीरजी मंदिर, अमरेश्वर महादेव और चौथ माता मंदिर सवाई माधोपू मे अन्य प्रसिद्ध स्थान है। सवाई माधोपुर न केवल भारत मे वन्यजीवो की विरासत रणथम्भौर राष्ट्रीय उद्यान की मेजबानी के लिए प्रसिद्ध है, यह खूबसूरत किलो, सेनोटाफ, कब्रो और महलो की तरह, यहाँ के मंदिरों में त्रिनेत्र गणेश मंदिर प्रमुख महत्व यह मंदिर राजसी रणथम्भौर किले में पूरे देश के हजारो तीर्थयात्रियो को लुभाता है| उनमे काला गौरा भैरव मंदिर और चौथ माता मंदिर शामिल है|

सवाई माधोपुर मे करने के लिए चीजे

राजस्थान में रणथंभौर का किला रणथंभौर का किला

सवाई माधोपुर में चौथ माता मंदिर चौथ माता मंदिर

रणथंभौर राष्ट्रीय उद्यान सवाई माधोपुर रणथंभौर राष्ट्रीय उद्यान

राजस्थान में खंडार का किला खंडार का किला

राजस्थान मे काला गौरा भैरव मंदिर

राजस्थान में चमत्कर मंदिर चमत्कर मंदिर

सवाई माधोपुर क्यों जाए

राष्ट्रीय उद्यान , बाघो के लिए प्रसिद्ध , यह जंगली जानवरो और पक्षियो , खूबसूरत किलो , सेनोटाफ , कब्रो और महलो की तरह , यहाँ के मंदिरो , रणथंभौर नेशनल पार्क , रणथंभौर किले के लिए , सवाई अमरूद के फल बहुत प्रसिद्ध , बाघों के जलाशयो , भारत मे वन्यजीवो |

सवाई माधोपुर के पर्यटन, दर्शनीय स्थल

  1. रणथंभौर पार्क
  2. रणथंभोर का किला
  3. सवाई माधोपुर में
  4. गणेश मंदिर
  5. तोरण द्वार
  6. समेटन की हवेली
  7. अमरेश्वर महादेव मंदिर
  8. चौथ माता मंदिर|