places to visit in rajasthan

माउंट आबू

अगर आपको पर्वतमालाएं देखने का शौक हो तो आप राजस्थान में अरावली की पहाड़िया देख सकते राजस्थान के सिरोही जिले में स्थित अरावली की पहाड़ियों जिनकी उचाई समुद्र तल से 1220 मीटर है|

बांसवाड़ा

आदिवासियो की भूमि / बांसवाडा का नाम ‘बांस, या बांस के पेड़ से मिलता है| जो कभी बहुतायत मे उगता था| यह शहर माही नदी पर सैकड़ो छोटे द्वीपो (स्थानीय पल्ली मे चाचाकोटा के रूप मे जाना जाता है|) इसे अक्सर ‘सौ द्वीपो का शहर, कहा जाता है| शहर को सबसे पहले महारावल जगमाल सिंह ने पाया था| पूरे क्षेत्र में कई बांस के जंगल स्थित है| यहाँ श्री राज मंदिर यह एक सुन्दर महल है, जिसका निर्माण 16 वीं शताब्दी के वास्तुकला की विशिष्ट राजपूत शैली का प्रतिनिधित्व करता है बांसवाड़ा कई उद्यानो और झीलो से सुशोभित है।

डीग

भरतपुर शहर के निकटवर्ती क्षेत्र में डिग राजस्थान का एक छोटा सा शहर है| 18 वीं शताब्दी में महाराजा सूरज महल द्वारा स्थापित इसने शाही परिवार के लिए ग्रीष्मकाल रिसॉर्ट के रूप में कार्य किया| अपने शानदार महलो उत्तम किलेबंदी और देसी बाजारों के लिए लोकप्रिय शहर के जीवन के नियमित दिन से बच गया है| आप ग्रामीण परिद्रश्य मे और संस्कृति ले सकते है|

डुण्डलोद

डुण्डलोद भारत कर राजस्थान मे झंझनू मे एक छोटा सा शहर है यह विशेष शहर पूरी तरह से राजस्थान के शेखावटी के क्षेत्र मे स्थित है| इस शहर मे किले और हवेलियाँ है| यह स्थान शेखावटी क्षेत्र के मध्य मे स्थित है| यह नवलगढ़ से लगभग सात किलोमीटर दूर है| यह शहर राम दत्त गोयनका की छतरी और इसके आसपास के कुओ के लिए जाना जाता है| गोयनका की छतरी और इसके आस-पास के कुओं के लिए जाना जाता है।

खिम्सर

खिमसर राजस्थान के नागौर जिले मे बीकानेर और जोधपुर के बीच स्थित है| यह अपने नागौर किले के लिए सबसे प्रसिद्ध है| इसका निर्माण शाही राजवंश के संस्थापक राव जोधा के आठवें पुत्र राजकुमार राव करमसजी ने 1523 मे आक्रमणकारियो से गावं को मजबूत रक्षा प्रदान करने के उददेश्य से किया था| अभी भी पूर्ववर्ती शाही परिवार का घर है

राजस्थान

Most Viewed