नागौर

नागौर

नागौर राजस्थान के जोधपुर संभाग मे एक रेगिस्तानी शहर है| नागौर पर्यटन आपको एक ऐतिहासिक शहर मे ले जाता है, जो अपने भव्य किले और बार्षिक पशु मेले के लिए जाना जाता है| पूरे शहर में कई सुन्दर और दिलचस्प स्मारक बिखरे हुए है| शहर के बीचो – बीच स्थित नागौर का लकीला राजस्थान के एक भूमि दुर्ग (भूमि का किला) का सबसे अच्छा उदाहरण है| हर तरफ विशाल द्वार और प्राचीर से संरक्षित इस शानदार किले मे कई महल मंदिर मस्जिद बगीचे और फव्वारे है| तीन मुख्य द्वार नागौर किले की ओर जाते है, जो राजस्थान के सबसे प्रभावशाली किलो मे से एक है| तरकीने दरगाह, यह ख्वाजा हमीदुद्दीन नागौरी की दरगाह है, जो अजमेर के ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती के प्रमुख शिष्यो मे से एक थे| सूफियो के लिए भी यह बहुत पवित्र स्थान है| मीरा और अबुल फज़ल के जन्म स्थान, नागौर जिले मे मेड़ता मे चारभुजा और पार्शवनाथ मनदिर और नागौर शहर मे सूफी संत तरक की दरगाह है| यह शहर नागौर किले के लिए प्रसिद्ध है जो एक रेतीला किला है| इस किले मे सुन्दर महल फव्वारे मंदिर और बगीचे है| नागौर शहर अपने मुग्ध कर देने वाले महलो जैसे हादी रानी महल, दीपक महल, अकबरी महल और रानी महल आदि के लिए प्रसिद्ध है| अमर सिंह राठौड़ की कब्र, वंशीवाला मंदिर, नाथ जी की छतरी और बरली भी देख सकते है| यह दरगाह इस्लाम धर्म के अनुयायियों में विशाल धार्मिक महत्व रखती है| इस सैर का प्लान बना रहे पर्यटक आकर जैन ग्लास मंदिर भी देख सकते है मंदिर मे अन्दर के हिस्सों में शीशे का काम द्रश्य को और भी आकर्षक बनाता है| नागौर में छुट्टियाँ बिताने का प्लान बनाने वाले पर्यटको को अक्टूबर से नवम्बर के महीने के बीच मे आने की सलाह दी जाती है| इसके अलावा, साईजी का टंका भी नागौर में भ्रमण के लिए एक प्रसिद्ध पर्यटक स्‍थल है।

नागौर क्यों जाए

कई सुन्दर , दिलचस्प स्मारक , शानदार किले , मंदिर |

नागौर घूमने का सबसे अच्छा समय

नागौर में छुट्टियाँ बिताने का प्लान बनाने वाले पर्यटको को अक्टूबर से नवम्बर के महीने के बीच मे आने की सलाह दी जाती है|