कोटा

कोटा

यह भारत का एक औद्योगिक केन्द्र भी बन रहा है| राजस्थान के अन्य शहरो की तरह इसमे कई किले और किले है| शहर के उल्लेखनीय आकर्षणो मे गढ़ पैलेस, बृजराज भवन पैलेस, उम्मेद भवन पैलेस और जगमंदिर पैलेस आजमगढ़ साहिब गुरुद्वारा, गोदावरी धाम मंदिर, गरदिया महादेव मंदिर, मथुरादेश मंदिर, चंबल उध्यान और सेवन वंडर्स पार्क शामिल है। यहाँ का मौसम बर्ष के अधिकांश समय गर्म और शुष्क रहता है| इस जगह की यात्रा करने का सबसे अच्छा समय अक्टूबर से मार्च तक के महीनो मे है| यह उन साड़ियो के लिए भी प्रसिद्ध है जिन्हे कोटा डोरिया (डोरिया का अर्थ है धागा) के रूप मे जाना जाता है।अपने किलो और महलो के लिए जाना जाता है, चंबल नदी के तट पर स्थित है| शहर फोर्ट पैलेस कोटा के सबसे लोकप्रिय आकर्षण और जटिल राजस्थान में सबसे बड़ा है| यह अपने दशहरा समारोह के लिए जाना जाता है मेले का मुख्य आकर्षण रावण, कुम्भकर्ण और मेघनाथ के पुतलो का जलना है| गंगरार त्योहार भी बहुत धूमधाम से मनाया जाता है| भगवान गौरी की एक मूर्ति एक भव्य जुलुस मे निकाली जाती है जिसमे न्रतक, ढोलकिया, हाथी, ऊंट और घोड़े शामिल होते है| यहाँ विशाल सागर झील के किनारे स्थित किशोर सागर झील भी शामिल है| सिटी पैलेस की यात्रा करे, जो कि हाथियो के साथ सजाए गए एक प्रवेशद्वार से गुजरते हुए असामान्य राव माधोसिंह संग्रहालय का भ्रमण कर रहे है| जहाँ आपको एक शाही अस्तित्व के अवशेष मिलेंगे, जिसमे चाँदी का फर्नीचर राजपूत हथियार और बहुत कुछ दिखाई देगा| कोटा बैराज चम्बल नदी पर बना एक बांध महत्वपूर्ण तट है, नदी ने अपनी उपजाऊ भूमि की सिंचाई के लिए बहुत आवश्यक पानी उपलब्ध कराया है| आप यहाँ चम्बल गार्डन में एक गढ़ी हुई स्वर्ग की सैर कर सकते है| नदी के परिद्रश्य के खिलाफ अमर निवास में उद्यान एक अच्छी तरह से बनाए हुए तालाब को घेरता है, जो मगरमच्छो द्वारा बसा हुआ है, मलावा पठार पर मोकंदारा पहाडियों से घिरा एक शहर कोटा में पर्यटन के लिए अच्छा गंतव्य है| यह प्रसिद्ध कोटा पत्थर का घर है| और उत्तम रूप से बुना हुआ उत्तम कोटा साड़ियाँ|

कोटा क्यों जाए

किले , महलो , पहाडियो से घिरा , साड़ियो के लिए |

कोटा घूमने का सबसे अच्छा समय

इस जगह की यात्रा करने का सबसे अच्छा समय अक्टूबर से मार्च तक के महीनो मे है|

कोटा के पर्यटन, दर्शनीय स्थल

  1. सभी ऐतिहासिक महलो की झीले
  2. बूंदी
  3. सिटी फोर्ट पैलेस
  4. किशोर सागर झील और जगमंदिर पैलेस|