चित्तौड़गढ़

चित्तौड़गढ़

"गर्व और सम्मान का शहर" / मेवाड़ की राजधानी चित्तौड़गढ़ किले, खँडहर और बलिदान और वीरता के अमर लोकगीतो की भूमि है| दक्षिण – पूर्वी राजस्थान मे चित्तौड़गढ़, चित्तौड़गढ़ किले के लिए जाना जाता है, जो कि एक पहाड़ी पर बना भारत का सबसे अबादा लगभग 700 एकड़ के क्षेत्र में फैला हुआ है| चित्तौड़गढ़ किला, यह किला वीरतापूर्ण कर्मो की याद से दिल को रोमांचित करता है| राणा कुंभा का महल, यह किला राणा कुंभा के दिमाग की उपज था, इसलिए उनका महल यहाँ की सबसे पुरानी संरचना है| सूरज पोल के माध्यम से महल मे प्रवेस करे गणेश मंदिर और जेनाना की सीमा या सभा कक्ष| फतेह प्रकाश पैलेस, राणा कुंभा के महल के पास महाराणा फ़तेह सिंह का घर था| इस महल के एक हिस्से को संग्रहालय और घरो में बदल दिया गया है, जिसमे जनता के देखने के लिए तलवारे, बर्तानौर शाही वस्त्र शामिल है| बस्सी वन्यजीव अभयारण्य, चित्तौड़गढ़ से लगभग 25 किलोमीटर की दूरी पर बस्सी गावं में आपको पैथर, जंगली सूअर, म्रग मोंगोज और कई प्रवासी पक्षियों का एक द्रश्य दिखाई देगा| विजय टॉवर या विजे स्टंबा चित्तौड़ का प्रतीक है, और एक विशेष रूप से वोल्ड अभिव्यक्ति विजय है, जिसे 1458 और 1468 के बीच राणा खुम्भा ने 1440 ईस्वी में मालवा के सुल्तान मोहम्मद शाह आई खिलजी पर अपनी जीत के लिए स्थापित किया था| मेनाल, चित्तौड़ से 78 किलोमीटर की दूरी पर इसे लिटिल खजुराहो कहा जाता है। बेशक कामुक नक्काशी खजुराहो मे उतनी गहरी नहीं है आप यहां शिव मंदिर जाते है, तो आप दीवारों पर देवी-देवताओ की कामुक नक्काशी देख सकते है। रानी पद्मिनी का महल, यह तीन मंजिला सफ़ेद इमारत एक पूल से घिरा हुआ है और नक्काशीदार छत्रियो द्वारा ताज पहनाया गया है महल परिसर के भीतर भीमताल कुंड एक कृत्रिम टैंक है जो पांडव भाई भीम की याद मे बनाया गया है| कीर्ति स्तम्भ, टॉवर ऑफ़ फ़ेम के रूप मे भी जाना जाता है, इसका निर्माण बघेरवाल जैन व्यापारी जीजाजी राठौड़ द्वारा किया गया था, जो विजय टॉवर की तुलना में पुराना और छोटा है| सबसे ऊपरी मंजिल में 12 स्तम्भ है और इसे 15 शताब्दी के आसपास बनाया गया था|

चित्तौड़गढ़ क्यों जाए

किले , खँडहर और बलिदान और वीरता के अमर लोकगीतो की भूमि , महल परिसर |

चित्तौड़गढ़ घूमने का सबसे अच्छा समय

चित्तौड़गढ़ जाने का सबसे अच्छा समय सितंबर से मार्च के बीच है।

चित्तौड़गढ़ के पर्यटन, दर्शनीय स्थल

  1. चित्तौड़गढ़ किला
  2. विजय स्तम्भ
  3. महा सती
  4. गौ मुख कुंड
  5. कीर्ति स्तम्भ
  6. राणा कुंभा का महल
  7. रानी पद्मिनी का महल
  8. राणा कुंभा पैलेस|