रत्नागिरी

रत्नागिरी

रत्नागिरी समुंद्री बंदरगाह है जो महाराष्ट्र राज्य मे अरब सागर के पास उपस्थित है| महाराष्ट्र राज्य के दक्षिण पश्चिम भाग मे स्थित रत्नागिरी अरब सागर के किनारे बसा एक छोटा परंतु सुन्दर शहर है| जयगढ़ किला रत्नागिरी के प्रायद्वीपीय छोर पर यह किला चमत्कार है इसके पास ही रत्नादुर्ग किला है मांडवी बीच शानदार बीच है| जहाँ की रेत काली है जबकि गणपतिपुले बीच और गणेशघुले अन्य दो स्थान जिनको अवश्य देखा और सराहना करनी चाहिये|

2 घूमने के स्थान

गणपतिपुले बीच के पास स्वयंभू गणपति यह प्राचीन मंदिर है यहाँ रहते हुए आप मछली के स्थानीय व्यंजनों और कोकम कढी का स्वाद लेना न भूलें अल्फांसो आम को बिना चूकें खाएं। यहाँ मिलने वाले आम के विभिन्न व्यंजनों को जैसे अम्बापोली आदि से अपनी बैग और कार भर ले सकते होते है| यह अपने आकर्षक पहाड़ो, सुखदायक समुंद्र तटों साड़ियो पुराने किलो और प्राचीन मंदिरों के द्वारा हर यात्री पर स्थायी छाप छोडती है इस शांत गंतव्य में सुखद माहौल और मौसम है जो इसे आदर्श स्थान बनता है ये मनोरम तटीय व्यंजनों के जाना जाता है रत्नागिरि, अल्फांसो आम और ओलिव रिडले कछुओं का घर भी है।"रत्नागिरी" नाम का अर्थ मराठी भाषा में 'पहाड़ियों का गहना' है। यह शहर समुद्र के किनारे, गुफाओं, गर्म झरनों, नदियों और झरनों के रूप में प्राकृतिक सुंदरता के लिए जाना जाता है।कोंकण तट के किनारे समुंद्र तट कुछ बेहद लंबे है यह तटीय भारत कुछ प्रागैतिहासिक हिन्दू मंदिरों का घर हुआ है जो तीर्थयात्रियो की बड़ी भीड़ को आकर्षित करते रत्नागिरी का ज्यादातर उष्णकटिबंधीय मौसम 'हापुस' या अल्फांसो मैंगो के उत्पादन के लिए बहुत अनुकूल आम की यह किस्म अपनी तरह का सबसे महंगा देश के बाहर ज्यादातर व्यापार मूल्य का होता है। इस क्षेत्र की भारी बर्षा और जलोढ़ मिटटी चावल, नारियल, काजू और बिभिन्न प्रकार के फलों की ब्रधि सुविधाजनक है यह मतस्य पालन महत्वपूर्ण उद्योग है|

रत्नागिरी क्यों जाए

आकर्षक पहाड़ो , समुंद्र तटों साड़ियो पुराने किलो , प्राचीन मंदिरो , 'हापुस' या अल्फांसो मैंगो के उत्पादन , समुद्र के किनारे , गुफाओं, गर्म झरनों , नदियों और झरनों के रूप में प्राकृतिक सुंदरता |

रत्नागिरी के पर्यटन, दर्शनीय स्थल

  1. गणपतिपुले बीच
  2. जयगढ़ किला
  3. रत्नादुर्ग किला
  4. गणेशघुले |