नासिक

नासिक

इस शहर मे संग्रहालयो, उद्यानो और प्राचीन मंदिरो की विशाल श्रंखला है जो पवित्र है और हिन्दू पौराणिक कथाओ मे अत्यधिक महत्वपूर्ण माने गए है शहर अपने मराठी व्यंजनो का दावा करता है जिन्हे आजमाया जाना चाहिये| नासिक आरंभिक पाषण युग से है जब गंगावदी नदी के पास बस्ती बनाई गई थी वर्तमान में नासिक गोदावरी के तट पर स्थित जिला मुख्यालय है और मुंबई से 185 किमी दूर है नासिक की सुंदरता की प्रशंसा में मुगल काल के दौरान इस शहर का नाम "गुलशनबाद" रखा गया था। प्रसिद्ध कुम्भ मेले के स्थलों में से एक मान्यता प्राप्त महाराष्ट्र राज्य में यात्रा करना चाहिये| रसीले अंगूर के बागों के लिए भी जाना जाता है जोकि प्रदान करने का अनूठा अनुभव है यह पश्चिमी घाट की तलहटी में गोदावरी नदी के तट पर बहुत पुराना शहर है इतना कि रामायण और महाभारत दो अति प्राचीन साहित्यिक संग्रह में संदर्भित किया गया है| यह माना जाता है कि जब अमरता का पेय "अमृता" "समुद्र मंथन" के बाद "असुरों" से दूर किया जा रहा था, तो यह चार क्षेत्रों में फैला था ये बाद में चार तीर्थस्थल बन गए जहाँ कुंभ मेला मनाया जाता है मुख्य रूप से उष्णकटिबंधीय जलवायु के कारण अंगूर, संतरे और प्याज की बार्षिक फसल के लिए प्रसिद्ध है| नासिक के कुछ अन्य दर्शनीय स्थलो मे सिक्का संग्रहालय, देवलाली, नंदुर मद्महेश्वर पक्षी अभयारण्य, रामशेज किला,, हरिहर किला, त्रिंगलवाड़ी किला, अंजनेरी किला, त्रिंगलवाड़ी झील, दुगार्वाडी झरने, चम्बलर्लेना गुफाएँ और प्रगति स्थल शामिल है।

2 बिभिन्न त्यौहार

यहाँ त्योहारो को पूरे उत्साह और जोश के साथ मनाया जाता है अगस्त के महीने में आने वाली श्रवण पूर्णिमा और महापर्व श्रवण अमावस्या तथा सितम्बर में भाद्रपदा अमावस्या सबसे अधिक प्रसिद्ध है इसके आलावा गणेश चतुर्थी, दशहरा, दीवाली होली और अन्य सभी त्योहारो को भी ख़ुशी और उल्लास के साथ मनाया जाता है|

नासिक क्यों जाए

संग्रहालयो ,उद्यानो , प्राचीन मंदिरो |

नासिक के पर्यटन, दर्शनीय स्थल

  1. सिक्का संग्रहालय
  2. देवलाली
  3. नंदुर मद्महेश्वर पक्षी अभयारण्य
  4. रामशेज किला
  5. हरिहर किला
  6. त्रिंगलवाड़ी किला
  7. अंजनेरी किला
  8. त्रिंगलवाड़ी झील
  9. दुगार्वाडी झरने
  10. चम्बलर्लेना गुफाएँ
  11. प्रगति स्थल|