ओंकारेश्वर

ओंकारेश्वर

Omkareshwar

नर्मदा नदी के तट पर मंधाता के तट पर यह एक प्रसिद्ध तीर्थस्थल है जिसमे शिव के 12 मूर्तिमान ज्योतिर्लिंग मंदिरो मे से एक शामिल है| ओकारेश्वर नाम का अर्थ है ‘ओंकार का भगवान, जो द्वादश ज्योतिर्लिंग तीर्थो मे से एक है या 12 तीर्थ जो ज्योतिर्लिंगम के रूप मे भगवान शिव को समर्पित है| निश्चित रूप से भारत को धर्म और आस्था की भूमि कहा जाता है| इंदौर के निकट दूरी पर ओम के पवित्र हिन्दू प्रतीक से अपना नाम प्राप्त करता है| यहाँ कई हिन्दू और जैन मंदिर पाए जाने के कारण हिन्दू श्रद्धालुओ के लिए तीर्थ स्थलो में से एक बन गया है| इस शहर का नजारा ओम के आकार का है क्योंकि नर्मदा और कावेरी इंदौर के निकट दूरी पर ओम के पवित्र हिन्दू प्रतीक से अपना नाम प्राप्त करता है| यहाँ कई हिन्दू और जैन मंदिर पाए जाने के कारण हिम नदियाँ एक संगम है| और पूरी जगह को जादुई एहसास प्रदान करती है| यह द्वीप उत्तर और दक्षिण मे एक गहरे नाले पुल से जुड़ा हुआ है| भारत में बारह ज्योतिर्लिंगों (भगवन शिव का प्रतीक) की उपस्थिति के कारण शहर बहुत अधिक मूल्य लेता है| श्री ओंकारेश्वर महादेव के मंदिर मे विराजमान हर साल असंख्य भक्तो को आकर्षित करता है जो यहाँ भगवान का आशीर्वाद लेने के लिए आते है| पौराणिक कथाओ के अनुसार, देवो के अनुरोध पर शिवलिंग भगवान द्वारा भेंट किए गए थे और दो भागो मे टूट गए थे| एक था ओंकारेश्वर मंदिर और दूसरा अमरेश्वर| अन्य मंदिर भी है जो समान रूप से सुन्दर है और देखने लायक है उदाहरण के लिए सिद्धनाथ मंदिर मे हाथी भित्तिचित्र आपको हिन्दू कला और वास्तुकला के बारे मे जानकारी देखने लायक है|

Places to see

Shri Omkar Mandhata

मंदिर एक मील लंबे नर्मदा के कांटे द्वारा गठित आधा मील चौड़ा द्वीप| जिस नरम पत्थर से इसका निर्माण किया गया था, इसकी पत्थर की छत पर भी नक्काशी की गई है मंदिर को घेरने वाले स्तंभो के साथ बरामदे है, जो कि वृत्तो, बहुभुजो और चौको में खुदे हुए है|

Sidhnath temple

प्रारम्भिक मध्ययुगीन ब्रहमणी वास्तुकला का एक बेहतरीन उदहारण है इसके बाहरी परिधि पर एक पत्थर की पटिया पर उकेरे गए हाथियो का एक तना है| हिंदू और जैन मंदिरों का एक समूह, जो विभिन्न वास्तुशिल्प विधाओं के कुशल उपयोग के लिए उल्लेखनीय है।

Satmatika Temple

ओंकारेश्वर से 6 किमी, 10 वीं शताब्दी के मंदिरो का एक समूह।

Kajal Rani Cave

यह 9 किमी दूर विशेष रूप से मनोरम दर्शनीय स्थल है, जिसमे व्यापक एकड़ का मनोरम द्रश्य है और धीरे – धीरे घूमते हुए परिद्रश्य है जो क्षितिज तक अखंड सद्भाव मे फैले हुए है|

Where to stay

ओंकारेश्वर मे बजट के बहुत सारे विकल्प है, जिनमे लक्जरी रिसॉर्ट से लेकर बजट होटल शामिल है। सभी होटल आधुनिक सुविधाओ से सुसज्जित है।ओंकारेश्वर मे ठहरने के लिए कुछ प्रमुख होटल है :

श्री राधे कृष्णा रिज़ॉर्ट

होटल देवांश पैलेस

होटल गीता श्री एंड रेस्तरां

होटल आशिरवाद

होटल ओम शिवा

प्रसादम भोजनालय

मां कंचन गेस्ट हाउस

Events and Celebrations at Omkareshwar

ओंकारेश्वर मे होने वाले कार्यक्रमो और त्योहार बहुत ख़ुशी के और काफी रंगीन होते है और उनका गाला अखंडता और भाईचारे की भावना और भावना से ओत -प्रोत होता है। यहाँ मनाए जाने वाले कुछ प्रमुख त्योहारो की सूची इस प्रकार है:

Mahashivratri

यह एक लोकप्रिय त्यौहार है, जिसे भगवान शिव की रात माना जाता है| हिंदू कैलेंडर के अनुसार, यह फरवरी-मार्च के महीने में मनाया जाता है। इस त्योहार के दौरान, भक्त रात के दौरान योग और ध्यान का अभ्यास और इतना ही नही, भक्तो द्वारा उपवास भी रखा जाता है और इसके दौरान भगवान शिव को दूध और अन्य वस्तुओ के साथ चढ़ाया जाता है।

Ganesh chathurthi

यह त्योहार अगस्त – सितम्बर के महीनो में आयोजित व बहुत धूमधाम से माना जाता है|

Annt chaudas

यह त्योहार सितम्बर के महीने में जिसमे उत्सवकी रात को प्रमुख जुलुस निकाले जाते है और भगवान गणेश की विशाल मूर्तियो को पानी मे अवशोषित किया जाता है| इस जगह के अन्य त्योहार होली और दिवाली हैं जो यहां भी मनाए जाते हैं।

ओंकारेश्वर क्यों जाए

हिम नदियाँ |

ओंकारेश्वर घूमने का सबसे अच्छा समय

जुलाई से मार्च।

ओंकारेश्वर के पर्यटन, दर्शनीय स्थल

  1. ओंकारेश्वर मंदिर
  2. ममलेश्वर मंदिर
  3. श्री ओंकारेश्वर ज्योतिलिंग|

कैसे पहुंचे ओंकारेश्वर


सड़क मार्ग द्वारा

कई राज्य सरकारी और निजी बसे है| जो ओंकारेश्वर को खन्नादवा (73 किमी), देवास (114 किलोमीटर), इंदौर (86 किलोमीटर) , उज्जैन (133 किलोमीटर), जलगाँव (22 किलोमीटर), भोपाल से जोड़ती हैं 268 किलोमीटर), वडोदरा (376 किमी), नागपुर ( 446 किमी), और मुंबई (576 किमी)।

रेल मार्ग द्वारा

ओंकारेश्वर रेलवे स्टेशन (लगभग 12 किमी) शहर से निकटतम रेलहेड है जो प्रमुख रतलाम - खंडवा रेलवे लाइन यह भारत के प्रमुख शहरों जैसे नई दिल्ली , मैसूर , बैंगलोर, लखनऊ , पुरी , कन्याकुमारी , जयपुर, रतलाम, आदि से जुड़ा हुआ है।

हवाई मार्ग द्वारा

निकटतम घरेलू हवाई अड्डा इंदौर में देवी अहिल्याबाई होल्कर हवाई अड्डा है , जो ओंकारेश्वर तक पहुँचने में लगभग 2 घंटे 21 मिनट का समय लेता है |अन्य निकटतम अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा भोपाल में राजा भोज हवाई अड्डा है , जो लगभग 264 किमी की दूरी पर बिभिन्न राष्ट्रीय और अन्तराष्ट्रीय गंतव्यो के लिए कई उड़ाने इस अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से उड़ान भरती हैं।