चित्रकूट

चित्रकूट

कई अजूबों की पहाड़ी के रूप में विख्यात यह शहर चित्रकूट जो देश मध्यप्रदेश में स्थित सबसे पुराने तीर्थस्थलों में से एक है। इसे एक पवित्र स्थान माना जाता है| क्योंकि यह महाकाव्य रामायण से जुड़ा हुआ है। ऐसा यह भी माना जाता है पौराणिक कथा के अनुसार, भगवान राम, सीता और लक्ष्मण ने अपने 14 साल के वनवास के लगभग 11 वर्षों तक इस क्षेत्र में रहे और चित्रकूट के जंगलों में अपना समय बिताया था।यह मंदाकिनी या पिशवानी नदी के किनारे पर स्थित है।ऐसा माना जाता है कि ब्रह्मा, विष्णु और महेश के अवतार यहां पैदा हुए हैं।

माना जाता है कि चित्रकूट के जंगल कई पवित्र संतों के घर थे। यहाँ के अधिकांश स्थान किसी न किसी रूप में भगवान राम और सीता से जुड़े हैं। चित्रकूट में कई धार्मिक, दर्शिनीय और घूमने वाले स्थान है। चित्रकूट की पावन भूमि अनेक दर्शनीय स्थलों से भरी हुई है| चित्रकूट भारत के मध्य प्रदेश राज्य का एक लोकप्रिय तीर्थ स्थल है। इस स्थान पर रामनवमी और दीवाली जैसे त्योहारों को बहुत ही धूम-धाम से मनाया जाता हैं।

चित्रकूट महान धार्मिक महत्व का है क्योंकि यह सबसे महत्वपूर्ण तीर्थों में से एक है और इसकी स्थिति इलाहाबाद से भी अधिक है। कस्बे में श्रावण झूला मेला, अमावस्या मेला, रामनवमी, दिवाली, विजयदशमी और नवरात्रि जैसे कई त्योहार मनाए जाते हैं। चित्रकूट घूमने का सबसे अच्छा समय जुलाई से मार्च का महीना आदर्श होता है | चित्रकूट एक धार्मिक स्थल हैं इसलिए यहां शुद्ध शाकाहारी भोजन ही अधिक देखने और चखने को मिलता है

चित्रकूट क्यों जाए

हनुमान धरा,सती अनुसुइया मंदिर,गणेश बाग,जानकी कुंड,कामताजी मंदिर,स्फटिक शिला

चित्रकूट घूमने का सबसे अच्छा समय

चित्रकूट घूमने का सबसे अच्छा समय जुलाई से मार्च का महीना आदर्श होता है

चित्रकूट के पर्यटन, दर्शनीय स्थल

  1. हनुमान धरा
  2. सती अनुसुइया मंदिर
  3. गणेश बाग
  4. जानकी कुंड
  5. कामताजी मंदिर
  6. स्फटिक शिला

कैसे पहुंचे चित्रकूट


सड़क मार्ग द्वारा

शहर उत्कृष्ट सड़कों द्वारा देश के सभी महान शहरों से जुड़ा हुआ है। झांसी, वाराणसी, छतरपुर, आगरा, इलाहाबाद और कुछ अन्य स्थानों के लिए लगातार बस सेवाएं उपलब्ध हैं।

रेल मार्ग द्वारा

चित्रकूट मध्य प्रदेश के मुख्य शहरों और रेलगाड़ियों द्वारा भारत के कई अन्य हिस्सों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। निकटतम रेलहेड चित्रकूट धाम में है, जो शहर से 5 मील की दूरी पर स्थित है।

हवाई मार्ग द्वारा

चित्रकूट से सबसे निकटतम हवाई अड्डा खजुराहो है जो, लगभग 185 किमी दूर है।