भोपाल

भोपाल

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल, इसकी नींव में एक समृद्ध ऐतिहासिक अतीत है। इसे "झीलों के शहर" के रूप में भी जाना जाता है, यह मध्य प्रदेश के उत्तर-पश्चिमी भाग में स्थित है। भोपाल का निर्माण 11 वीं शताब्दी में प्रसिद्ध राजा भोज द्वारा किया गया था। भोपाल एक शांत, ऐतिहासिक व सहज शहर है, जहां खूबसूरत झीलों का नजारा बहुत अच्छा है शहर का अधिकांश क्षेत्र हरीभरी पहाड़ियों से घिरा है यह प्राचीन शहर आज एक विरल शहरीकृत स्थान के रूप में आता है, जिसमें परंपरा और नवीनता का सही मिश्रण है।

भोपाल से 210 किलोमीटर दूरी पर मध्य प्रदेश का एक मात्र पर्वतीय स्थल पंचमढ़ी होशंगाबाद जिले में समुद्रतल से 1067 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है। यह रात में रोशनी से जगमगाता शहर है भोपाल की ताज-उल-मस्जिद एशिया की सबसे बड़ी मस्जिद मानी जाती है| स्वर्ण शिखर से भोपाल जामा मस्जिद भी आकर्षण का केन्द्र है। यहाँ जलप्रपात, तालाब एवं घने जंगल से घिरा हुआ है|

भोपाल कई महत्वपूर्ण स्थल प्रस्तुत करता है जो पर्यटकों के लिए एक वास्तविक आनंद हैं। नवाब का शहर, भोपाल एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है। इसके सुंदर सौंदर्य के अलावा, भोपाल पर्यटकों के स्थानों पर जाने के लिए पर्याप्त संख्या में है। कुछ रचनात्मक भेद की वास्तविक कृति हैं।

मानसून के समय भोपाल की खूबसूरती अधिक हो जाती है इसके आस पास के पहाड़ जंगल झरने भी रोमांच लगते है| यहाँ पर फैमिलीज एडवेंचर ट्रेकिंग को भी आकर्षित करती है मानसून बदल जाने से लोग घूमने फिरने पिकनिक अपने दोस्तों के साथ फोटो ग्राफी का आनंद लेते है भोपाल से 55 किमी दूर रायसेन के खटपुरा स्थित अमरगढ़ फाल की खूबसूरती आपके दिल को मजेदार कर देती है| बारिश में यहाँ दो बड़े वाटर फाल बनते है इसमे प्राकतिक खूबसूरतियो का मजा लेते है| भोपाल अपने चांदी के आभूषण, कढ़ाई और सितारे वाले मखमली पर्स, कुशन और मोती के लिए लोकप्रिय है बिरयानी, कबाब, चाट और जलेबी यहाँ प्रसिद्ध हैं। यहां जमील होटल में देश की सर्वश्रेष्ठ बिरयानी मिलती है |

भोपाल क्यों जाए

प्राचीन शहर,झीलों के शहर, लक्ष्मी नारायण मंदिर,शौकत महल,राष्ट्रीय मानव संगठन,जामा मस्जिद,ऊपरी झील और निचली झील,ताज-उल मस्जिद,वन विहार सफारी पार्क,परंपरा और नवीनता का मिश्रण

भोपाल के पर्यटन, दर्शनीय स्थल

  1. लक्ष्मी नारायण मंदिर
  2. शौकत महल
  3. राष्ट्रीय मानव संगठन
  4. जामा मस्जिद
  5. ऊपरी झील और निचली झील
  6. ताज-उल मस्जिद
  7. वन विहार सफारी पार्क

कैसे पहुंचे भोपाल


सड़क मार्ग द्वारा

इंदौर, जबलपुर, ग्वालियर और राज्य के अन्य सभी प्रमुख शहरों के साथ नियमित बस सेवा भोपाल।

रेल मार्ग द्वारा

इटारसी और झांसी के रास्ते मुंबई से दिल्ली जाने वाली प्रमुख ट्रेनें और ये भी भोपाल शहर से होकर गुजरती हैं।

हवाई मार्ग द्वारा

भोपाल से नियमित उड़ानें उपलब्ध हैं और शहर को नई दिल्ली, मुंबई, इंदौर और ग्वालियर से जोड़ता है।