व्य्थिरी 

व्य्थिरी 

वीथिरी समुंद्र तल से लगभग 1300 मीटर ऊपर कोझीकोड से लगभग 100 किमी की दूरी पर केरल के सबसे खूबसूरत हिल स्टेशनो मे से एक है| यह स्थान कॉफ़ी, चाय, इलायची, काली मिर्च और रबर के हरे – भरे विशाल वृक्षारोपण के लिए प्रसिद्ध है| हरी – भरी वनस्पतियो से भरी धुंध की पहाड़ियां अपने आगंतुको को लुभावनी द्रश्य प्रदान करती है| ताजा और प्राचीन हवा प्रकृति की सुगन्ध से लदी है| और आपके मन और आत्मा को तरोताजा करती है| यहाँ आने वाले पर्यटको के लिए मुख्य आकर्षण इसके अनूठे और साहसिक ट्री हाउस है, जो घाटी के सुरम्य द्रश्य प्रदान करते हुए उष्णकटिबंधीय वर्षावन मे सबसे विशेष विचारो मे से एक का अनुभव कर रहे है। यहां आप हर सुबह पक्षियों के चहकने और प्रकृति की विदेशी महक के लिए उठते है। कॉटेज की ओर जाने वाली धाराओं पर लटके रोप ब्रिज पर्यटक को एक शानदार दृश्य प्रदान करते है।व्याथिरी के अन्य प्रमुख आकर्षण केरल के वायनाड जिले मे सुल्तान बाथरी से लगभग 10 किलोमीटर की दूरी पर अम्बुकुति पहाडियो पर स्थित एडक्कल गुफाएं है| इसका गठन एक विशाल चट्टान मे एक बड़े विभाजन के कारण किया जाता है| और परिणामस्वरूप परिद्रश्य दुनिया के सबसे अमीर चित्रमय गैलरी का प्रतिनिधितव करता है| यदि आप वन्यजीव प्रेमी है तो आपको केरल के सबसे अच्छे अभ्यारण्य वायनाड वन्यजीव अभ्यारण्य क्षेत्र के प्राकृतिक संसाधनो के संरक्षण और सुरक्षा के लिए बनाया गया बड़ा नीलगिरी जीवमंडल आरक्षित क्षेत्र का अभिन्न अंग होता है|

Main features

केरल मे अपनी तरह का एकमात्र हिल स्टेशन रिसॉर्ट| इसे 150 एकड़ मे फैले पर्यावरण के अनुकूल, पारम्परिक केरल वास्तुकला शैली मे बनाया गया है रोप ब्रिज धाराओं के ऊपर कैंटिलीवर वाले कॉटेज की ओर जाता है। आधी रात को बिजली बंद, लालटेन रोशनी, प्रकृति का संगीत और हाइलैंड की ठंड किसी को भी सोने के लिए लाड़ करती है।

Guest facility

सम्मेलन सुविधा, सार्वजनिक टेलीफोन, लॉन्ड्री सेवा और कॉल पर डॉक्टर।

nearby wildlife sanctuaries muthanga

50 कि.मी. नागरहोल

75 कि.मी. मुथुमाला

70 कि.मी. बांदीपुर

100 कि.मी. थोलपट्टी

70 किलोमीटर।