मलप्पुरम

मलप्पुरम

मल्लपुरम दक्षिण भारत मे केरल के उत्तरी जिलो मे से एक है वस्तुतः पहाडियो के बीच पूर्व मे नीलगिरी पहाडियो पश्चिम मे अरब सागर और दक्षिण मे त्रिशूर और पलक्कड़ जिलो से घिरा हुआ है| मल्लपुरम मे कई विदेशी समुंद्र तट शान्त बैकवाटर, पहाड़ियां और घाटियाँ है| मस्जिद अपने असाधारण त्योहारो के लिए प्रसिद्ध है| एक मल्लपुरम यात्रा पर आये और आपको इस ऐतिहासिक हिल स्टेशन की खोज का एक यादगार अनुभव होगा|

2 tourist attraction in mallpuram

मलप्पुरम मे कुछ प्रसिद्ध पर्यटक आकर्षण है, जिन्हे आप मलप्पुरम यात्रा के दौरान देख सकते है यह महान ऐतिहासिक महत्व का स्थान थिरुनावया बार्षिक सर्वोदय मेला का स्थल है| अपने घने जंगलो के लिए प्रसिद्ध नेदुमकायम ब्रिटिश काल के दौरान बने लकड़ी के विश्राम ग्रहो से हाथियो और हिरणो के झुण्ड के साँस लेने के द्रश्य प्रस्तुत करता है| कोट्टक्कल आयुर्वेदिक उपचार, आर्य वैद्य सला और इसके औषधीय जड़ी–बूटी उद्यान के लिए प्रसिद्ध और एक अन्य आकर्षण वेंकटथेवा मंदिर है, जो अपनी मनोरम भित्ति के लिए प्रसिद्ध है| यह तटीय शहर पहले के दिनो से मछली पकड़ने के प्रमुख केन्द्र के रूप मे जाना जाता है| यह प्राचीन मुस्लिम मस्जिद के लिए भी प्रसिद्ध है| पास मे बाययम कयाल है, जहाँ ओणम महोत्सव के दौरान नौका दौड़ आयोजित की जाती है| यह थुन्जथ रामानुजन एज़ुथचन का जन्मस्थान है- आधुनिक मलयालम साहित्य के जनक। दिसंबर के अंतिम सप्ताह के दौरान एक महान साहित्यिक आयोजन थुजन उत्सव आयोजित किया जाता है, जहाँ युवा कवि थुजन को अपनी पहली कविता प्रस्तुत करने को इकट्ठा होते है| वनस्पतियो और जीवो की अनोखी प्रजातियाँ के साथ कदलुंडी पुझा नदी एक ऊँचे पहाड़ो और अनछुई घाटियो के बीच बहती है, एक सुखद एहसास देती है|

मलप्पुरम क्यों जाए

कई विदेशी समुंद्र तट शान्त बैकवाटर, पहाड़ियां और घाटियाँ , घने जंगलो |

मलप्पुरम घूमने का सबसे अच्छा समय

इस जगह के पहाड़ी इलाके मे साल भर मध्यम जलवायु का अनुभव होता है| लेकिन घूमने का सबसे अच्छा समय सितम्बर से मार्च तक का बर्षा के साथ मानसून प्यारा सर्दियाँ ठंडी होती है| और इस उपरान्त तापमान दस डिग्री से नीचे आ जाता है|


कैसे पहुंचे मलप्पुरम


सड़क मार्ग द्वारा

सड़को के उत्कृष्ट नेटवर्क से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है मल्लपुरम दक्षिण भारत के सभी प्रमुख शहरो से जुड़ा हुआ है| आप कई बसो टैक्सी और ऑटो – रिक्शा मे मल्लपुरम के आसपास देखा जा सकता है|

रेल मार्ग द्वारा

निकटतम रेलहेड कोझिकोड रेलवे स्टेशन है।

हवाई मार्ग द्वारा

हवाई मार्ग से निकटतम हवाई अड्डा कालीकट अन्तराष्ट्रीय हवाई अड्डा है जो 36 किमी दूर स्थित है, जिसे करीपुर हवाई अड्डा भी कहा जाता है|