केरल कन्नूर के सबसे उत्तरी जिलो मे से एक है| कन्नूर दो मलयालम शब्दो का एक विलय शब्द है "कन्नन" (भगवान कृष्ण) और "उरु" (स्थान) जिसका अर्थ है भगवान कृष्ण की भूमि| पश्चिमी घाट के साथ इसके पूर्व और पश्चिम मे अरब सागर यह भूमि प्राकृतिक सुन्दरता से भरपूर है| इसके प्राकृतिक समुंद्र तट, हिल स्टेशन, नदियाँ, बैकवाटर, ऐतिहासिक स्मारक और धार्मिक केन्द्र, यह जिला केरल की कई लोक कलाओ और संगीत की जन्मभूमि भी है| एझीमाला पहाड़ी 286 मीटर की ऊँचाई पर कन्नूर पर्यटन स्थलो मे सबसे अधिक दर्शनीय है| पहाड़ी पहाडियो के एक अलग समूह का एक हिस्सा है| और बिंदु चारो ओर सरासर नग्न प्राकृतिक वैभव के बेडलाइटिंग द्रश्य प्रस्तुत करता है – पहाडियो को हरे, कपास के बादलो की साथ कवर नीले आसमान को कवर करते है| और नीले सुन्दर घाटी है| इस स्थान का सांस्कृतिक और ऐतिहासिक महत्व भी है – यह स्थान चोल – चेरा युद्धो के दौरान एक युद्धक्षेत्र था| बौद्ध इस स्थान को पवित्र मानते है| कि भगवान बुद्ध ने एझीमाला का दौरा किया था|