कालीकट

कालीकट

"व्यापार और पर्यटन का एक औपनिवेशिक शहर" / पश्चिमी घाट और अरब सागर के बीच दक्षिणी भारत मे कोझीकोड प्राचीनता से यात्रियो को आकर्षित करता रहा है| यह अपने एंग्लिकाइज्ड नाम कालीकट के नाम से भी जाना जाता है। मसाले के व्यापार से प्रभावित होकर, फीनिशियन, अरब और चीनी इसके तटो की ओर चल पड़े| 1498 मे जब वास्को डी गामा अपने तटो पर उतरा, तो उसने डच, फ्रांसीसी और बाद मे अंग्रेजी का मार्ग प्रशस्त किया| पूर्वी मसालो के प्रमुख व्यापारिक बिन्दू के रूप मे कालीकट को ‘मसालो का शहर, कहा जाता था| मल्लपुरम पर्यटन स्थल जो पूरी से देखने लायक है इस शहर की स्थापना 1042 ईस्वी मे हुई थी| कालीकट शब्द कैलिको से लिया गया है, हाथ से बुने हुए सूती कपड़े जो कोझीकोड से निर्यात किए गए थे| कोझिकोड समथिरिस या जमोरिन साम्राज्य की राजधानी थी|

अंतर्राष्ट्रीय व्यापार के फलने - फूलने के कारण केरल के राजाओ के बीच समथिरी साम्राज्य शक्तिशाली हो गया। पश्चिम मे निर्मल अरब सागर की रमणीय चोटियो और पूर्व मे वायनाड पहाड़ियो की गौरवपूर्ण चोटियो पर बसे हुए, शांत समुद्र तटो, हरे - भरे ग्रामीण इलाको, ऐतिहासिक स्थलो के साथ यह जिला, सभी कोझीकोड को एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल बनाने के लिए गठबंधन करते है| यह शहर काली मिर्च, कॉफ़ी, रबड़, लेमनग्रास ऑइल आदि वस्तुओ का विपणन केन्द्र है, जो कोझीकोड और पडोसी जिलो वायनाड, मल्लपुरम और कन्नूर मे उत्पादित है| मालाबार मे प्रमुख व्यापार केन्द्र और विदेशो मे प्रमुख निर्यातक होने के नाते, अन्तराष्ट्रीय यात्रियो ने इस जिले को भारत के महान सम्राट के रूप मे नामित किया| यह धार्मिक आस्था के सभी रूपो के बीच अपने सह - अस्तित्व के लिए प्रसिद्ध है| जिला एक प्रसिद्ध कपास - बुनाई केन्द्र भी था, जिसे कैलिको कपडे का नाम दिया गया था| शहर मे विभिन्न हॉटस्पॉट पर्यटन स्थलो, ऐतिहासिक स्थलो, मंदिरो और कई और अधिक दर्शनीय स्थल है।

कालीकट दक्षिण भारतीय व्यंजनो के लिए प्रसिद्ध है, जो कई रेस्तरां मे परोसा जाता है। स्टेपल भोजन चावल कई शाकाहारी और मांसाहारी दोनो के संयोजन के साथ परोसा जाता है। कई डीलक्स होटल अच्छे माहौल और विभिन्न व्यंजनों की पेशकश करते है।

कालीकट क्यों जाए

शांत समुद्र तटो, हरे - भरे ग्रामीण इलाको, ऐतिहासिक स्थलो , शहर मे विभिन्न हॉटस्पॉट पर्यटन स्थलो , ऐतिहासिक स्थलो , मंदिरो और कई और अधिक दर्शनीय स्थल है।

कालीकट घूमने का सबसे अच्छा समय

कोझीकोड केरल राज्य मे स्थित है| केरल के इन हिस्सो मे मौसम पूरी तरह से सुहावना है , हालाँकि आर्द्रता कुछ ऐसी हो सकती है जो परेशान करती है| औसत तापमान 23 ०c के आसपास से भी सर्दियाँ खुश है| इस जगह की यात्रा करने का सबसे अच्छा समय सितम्बर से मार्च के महीनो के बीच कही भी होगा|

कालीकट के पर्यटन, दर्शनीय स्थल

  1. कोझिकोड मे बैकवाटर्स
  2. कोझीपारा जलप्रपात
  3. थिककोटि लाइट हाउस
  4. तुषारगिरी झरना
  5. बेपोर
  6. कक्कयम डैम

कैसे पहुंचे कालीकट


सड़क मार्ग द्वारा

केरल पर्यटन विभाग और राज्य सरकार द्वारा संयुक्त रूप से चलाई जाने वाली KSRTC बसे परेशानी मुक्त तक पहुंचती है| खोज़िकोड कोच्चि, मैंगलोर, कोयम्बटूर, त्रिवेंद्रम और कोच्चि जैसे प्रमुख स्थलो से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। बस स्टेशन पहुँचने के लिए टैक्सी किराए पर ले सकता है|

रेल मार्ग द्वारा

इस जगह ट्रेन द्वारा आसानी से पहुंचा जा सकता है| क्योकि शहर का अपना रेलवे स्टेशन है| यह सभी प्रमुख शहरो से अच्छी तरह से जुड़ा मुंबई , दिल्ली , बंगलौर और चेन्नई जैसे प्रमुख शहरो से पहुँचने के लिए लगातार ट्रेन उपलब्ध है| भोगौलिक रूप से अच्छी तरह से रखा गया है देश के सभी हिस्सों से जुड़ा हुआ है|

हवाई मार्ग द्वारा

निकटतम हवाई अड्डा कोझीकोड के आसपास जो करिपुर अन्तराष्ट्रीय है , जिसे कालीकट अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे के रूप मे अधिक जाना जाता है हवाई अड्डा कोझीकोड शहर से 23 किलोमीटर की सुविधाजनक दूरी पर स्थित है। सभी प्रमुख राष्ट्रीय और अन्तराष्ट्रीय शहरो से लगातार अंतरराष्ट्रीय और घरेलू उड़ाने है।