मदिकेरी

मदिकेरी
एक सुन्दर सा सुरम्य हिल स्टेशन जो कर्णाटक के कुर्ग जिले में सुशोभित ही जहाँ का वातावरण वरण से दिमागी तनाव दूर हो जाता है जो हरी भरी घाटियों के लिए जाना जाता है यहाँ की जलवायु बहुत ही सुन्दर और सजीली होती है मदिकेरी में इलायची की बागानों की वजह से यह पूरी तरह से महकता रहता है यहाँ पर न कॉफी बागानों,काली मिर्च की खेती बहुत ही अधिक मात्र मे होती है |यहाँ पर सूर्यास्त का द्रश्य सबसे शानदार होता है जो रोलिंग पहाड़ियों और अंतहीन घाटियों के ग्लैमरस स्थल प्रदान करता ,मदिकेरी एक शांतिपूर्ण और आकर्षक तरीके से छुट्टियां बिताने के लिए एक आदर्श स्थान है।

मदिकेरी घूमने का सबसे अच्छा समय

नवंबर से फरवरी में पहाड़ी गंतव्य होने की वजह से सर्दियों का मौसम यह पर मस्ती और मौसम के नजारो का आनंद लेने के लिए सबसे बेस्ट होता है


कैसे पहुंचे मदिकेरी


सड़क मार्ग द्वारा

उप्पला जैसे शहरों से सड़क के माध्यम से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ मैंगलोर से लगभग 120 किलोमीटर दूर मदिकेरी मैसूर और और केरल के बेंगलुरु, कूर्ग, कुन्नूर नेटवर्क में रहते है |

रेल मार्ग द्वारा

मदिकेरी से लगभग 115 किमी पर्यटक यहां से लगभग 140 किलोमीटर दूर मंगलौर और मैसूर से भी ट्रेन पकड़ सकते हैं। नियमित बसें और टैक्सी मदिकेरी को इन स्थानों से जोड़ती हैं।दूर हसन, कासरगोड, कान्हांगड, कन्नूर और थालास्सेरी में सबसे नजदीकी रेलहेड हैं |

हवाई मार्ग द्वारा

मैंगलोर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा निकटतम हवाई अड्डा है, जो मडिकेरी से लगभग 140 किमी दूर है। नियमित उड़ानें मुंबई, बेंगलुरु, नई दिल्ली, हैदराबाद, चेन्नई, पुणे और अन्य खाड़ी देशों से मैंगलोर से जोड़ती है |