places to visit in jharkhand

झारखंड, भारत का 28वां राज्य है। जिसकी स्थापना 15 नवंबर 2000 को हुई थी। 'लैंड ऑफ फॉरेस्ट' के नाम से मशहूर झारखंड घूमने के लिए बहुत ही अच्छी जगह है। वाइल्डलाइफ के शौकिनों के लिए तो यहां इतने ऑप्शन्स मौजूद हैं जो आपको एक्सपीरिएंस के साथ फोटोग्राफी का भी बेहतरीन मौका देते हैं। जंगल, पहाड़, झरनें, म्यूजियम, पक्षी अभ्यारण्य और थोड़ी-थोड़ी दूर पर बने मंदिर खूबसूरती के साथ यहां के पर्यटन को भी बढ़ाने का काम करते हैं। जो यहां की अर्थव्यवस्था में बहुत ही बड़ा योगदान है।

समुद्रतल से 651 मीटर की ऊंचाई पर स्थित झारखंड 79,714 स्क्वेयर किमी में फैला हुआ है। यहां की कुल जनसंख्या 32,988 है। झारखंड की अलग संस्कृति और जीवनशैली की वजह यहां बड़ी संख्या में निवास करने वाले आदिवासी हैं।

झारखंड में बहुत सारी जगहें हैं जहां अकेले आकर भी आप बोर नहीं हो सकते। पक्षियों और जानवरों को देखने के लिए बेतला, हजारीबाग नेशनल पार्क और दलमा सेंचुरी अच्छी जगहें हैं जहां आप जानवरों को देखने के साथ ही इन्हें कैमरे में भी कैद कर सकते हैं। इसके अलावा रजरप्पा, छिनमस्तिके मंदिर, पंचघाघ वॉटरफॉल, दशम वॉटरफॉल, गौतम धारा, पतरातू डैम, जोन्हा आदि घूमने लायक हैं।

जमशेदपुर

द स्टील सिटी के नाम से प्रसिद्ध जमशेदपुर झारखंड के सबसे बड़े शहर के नाम से प्रसिद्ध , यह शहर भारत का एक अच्छा टूरिस्ट प्लेस भी है चौड़ी सड़कें पेड़ और यूजर योजनाबद्ध प्रगति क्षेत्र होने के कारण यह क्षेत्र पर्यटन की दृष्टि में भी निरंतर प्रगति कर रहा है भारत के सबसे सुव्यवस्थित और नियोजित शहरों में से एक है यहां लगभग हजारों की तादाद में लघु और मध्यम उद्योग स्थापित है कारण विभिन्न उद्योगों ने विभिन्न क्षेत्रों के लोगों को अपनी ओर आकर्षित किया है

रांची

रांची महज झारखंड की राजधानी नहीं बल्कि एक अच्छा ट्रैवल डेस्टिनेशन है। जहां कई सारे खूबसूरत वॉटफॉल्स हैं। 'मैनचेस्टर ऑप ईस्ट' के नाम से ही मशहूर रांची खनिज संपन्न राज्य है। रांची आकर आप हुंडरू, दसम, जोन्हा वॉटरफॉल, बिरसा जूलोजिकल पार्क, रांची लेक, कांके डैम और जगन्नाथ मंदिर जैसी दूसरी जगहों को भी देख सकते हैं।

हजारीबाग

वनस्पतियों और जीवों की भूमि, और झारखंड का सुरम्य गंतव्य जो वन्यजीव पर्यटन में काफी हद तक योगदान देता है, अपनी हरियाली, पहाड़ियों और सुंदर मौसम के लिए प्रसिद्ध यह शहर 2019 फीट की ऊंचाई पर स्थित, हजारीबाग जहाँ लगभग एक हजार से जायदा उद्यान, जो अपने स्वास्थ्यप्रदक जलवायु के लिए प्रसिद्ध है। जैसा कि इसके नाम से पता चलता है, हजारीबाग का मतलब हजार उद्यानों का शहर है, हालांकि, इसका मतलब यह नहीं है कि शहर में सिर्फ बगीचे हैं यहां कई मंदिर, पहाड़ियां, झरने और वन्यजीव अभयारण्य हैं जो पर्यटकों को एक सुखद अनुभव प्रदान करते हैं।

बोकारो

बोकारो अपने इस्पात और कोयला उद्योगों के लिए प्रसिद्ध है। बोकारो झारखंड के शीर्ष पर्यटन स्थलों में से एक है, यहां उपलब्ध प्राकृतिक संसाधनों ने शहर को एक प्रमुख औद्योगिक केंद्र में बदल दिया है। यहाँ के प्राकृतिक स्थलों और पर्यटकों के कारण बोकारो हमेशा पर्यटकों, प्रकृति प्रेमियों, और भक्तों का पसंदीदा गंतव्य रहा है यहाँ के प्रमुख स्थान जैसे काली मंदिर, जवाहर नेहरू जैविक उद्यान, गरगा बांध, और राम मंदिर यात्रियों को सुखद और आरामदायक आकर्षण प्रदान करता है

देवघर

देवघर धार्मिक स्थल के तौर पर मशहूर है। बाबा बैद्नाथ, जो भारत के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है। इसके दर्शन आप यहां आकर कर सकते हैं। इसके अलावा यहां त्रिकूट हील्स, शिवगंगा, सतसंग आश्रम, कुंडेश्वरी आदि जगहों को आप देख सकते हैं।

पलामू

भारत के झारखंड प्रान्त में स्थित पलामू जिसे पहले डाल्टनगंज के नाम से भी पुकारते थे लेकिन लंबे समय तक चले आंदोलन के बाद मेदनीनगर के नाम से पुकारा गया इस आन्दोलन में लेकिन , बैद्यनाछ साहू, युगलकिशोर सिंह,आनंदमार्ग के लक्ष्मण सिंह, विश्वनाथ सिंह जैसे लोगों का बहुत बड़ा योगदान है यह देश के सुरम्य गंतव्य का अनुभव कराने वाला एक अच्छा पर्यटन स्थल है यहाँ का वन्यजीव अभयारण्य और एक राष्ट्रीय उद्यान प्रकृति प्रेमियों, ट्रेकर्स और वन्यजीव प्रेमियों को एक शानदार अनुभव प्रदान कराता है वन्यजीव अभयारण्य, बेतला राष्ट्रीय उद्यान, नदी कोएल, पलामू किला, ऊपरी घाघरी झरने, निचले घाघरी जल प्रपात, और लोध जलप्रपात यहाँ के प्रमुख आकर्षण है पलामू में स्थित समृद्ध सांस्कृतिक पृष्ठभूमि, जो भारतीय संस्कृति के प्रशंसकों और इतिहासकारों के बीच शहर की लोकप्रियता को बनाए रखने में अपना प्रमुख योगदान निभा रही है

नेतरहाट

समुद्र तल से 1,128 मीटर की ऊंचाई पर स्थित, नेतरहाट झारखंड का एक बहुत खूबसूरत हिल स्टेशन है जिसके कारण यहाँ दूर दूर के शहरों और कस्बों से बड़ी संख्या में पर्यटक यहाँ आते रहते है यदि आप प्रकृति की समृद्धि को देखने की जिज्ञाषा रखते है तो यह आपके लिए अच्छी जगह सिद्ध होगी छोटानागपुर की रानी के नाम से पुकारा जाने वाला नेतरहाट पूरे झारखंड में जंगल से घिरा हिल स्टेशन सबसे ठंडा स्थान है यहाँ का शांत वातावरण और प्राकृतिक परिदृश्य आपके दिल को मनमुग्ध कर देगा यहाँ का ठंडा और आरामदायक मौसम, गर्मी में आने वाले पर्यटकों का दिल मोह लेता है और गर्मी के मौसम का अहसास भी नहीं होने देता है अगर आप भी महानगरीय शहरों की हलचल से दूर रहने के लिए अवकाश की योजना बना रहा है, नेतरहाट एक सही जगह है

Most Viewed