डलहौजी

डलहौजी
पठान कोठ से लगभग 80 किलोमीटर दूर विदेशी पर्यटकों द्वारा देखा जाने वाला सुन्दर शांत सा ईलाका है जो 2,030 मीटर की ऊंचाई पर स्थित शोभायमान हो रहा है | डलहोजी एक बहुत ही आकर्षण वाली जगह है जहाँ पर घुमने के लिए पर्यटक बहुत बेताब से रहते है | जहाँ ब्रिटिश आभा अपनी औपनिवेशिक वास्तुकला को महसूस कर सकते है | हिमाचल हथकरघा उद्योग एम्पोरियम, हिमाचल हथकरघा और शिल्प केंद्र, और तिब्बती हस्तशिल्प केंद्र बैग, गुड़िया, हस्तशिल्प, कालीन, कालीनों और पर्स सहित माल का स्पेक्ट्रम खरीदने के लिए जाते है |यहाँ पर सबसे पुराना 150 साल पुराना मंदिर यानी लक्ष्मी नारायण मंदिर है।इसका नाम लॉर्ड डलहौजी के नाम पर रखा गया है, जो भारत के वाइसराय थे।