अहमदाबाद

अहमदाबाद

'मैनचेस्टर ऑफ़ इंडिया' के रूप में जाना जाने वाला शहर अहमदाबाद अपनी वास्तु कला के पहचाना जाता है और पर्यटकों के बीच एक उपयुक्त सप्ताहांत गंतव्य है अहमदाबाद एक सबसे लोक प्रसिद्ध शहर है जहाँ पर घूमना सभी लोगो को बहुत अच्छा लगता है अहमदाबाद में लोग अपने परिवार के साथ हफ्तों के लिए रुकने का प्लान करते है और दिनों को बड़ी उत्साह के साथ बिताते है| अहमदाबाद में पर्यटन एक पर्यटक के लिए सब कुछ प्रदान करता है, ताकि यह एक मस्ती भरा रोमांच हो। आप दर्शनीय स्थलों की यात्रा कर सकते हैं

अहमदाबाद पश्चिमी भारत का सबसे जीवंत शहर है, जो अपने सूती उद्योगों के लिए जाना जाता है, और इसी कारण पूरे देश भर में जाना जाता है

यह शहर 1411 में अस्तित्व में आया था जब इसकी स्थापना सुल्तान अहमद शाह प्रथम ने की थी, जिस कारण इस शहर को अहमदाबाद का नाम भी से भी जाना गया, जिसे गुजरातियों ने अमावद भी कहा था। यहाँ आप उन कई स्मारकों और संरचनाओं देख सकते है जिन्हें मुग़ल प्रभाव बनबाया गया था है जो अन्यथा गुजराती संस्कृति का सच्चा प्रतिबिंब है।

यहाँ पर सबसे प्रमुख साबरमती आश्रम है जहाँ पर अपने भारत के राष्ट्रपिता गाँधी जी रहते थे तभी से इस देश को नई दिशा मिली ,साथ ही गाँधी जी अपनी पत्नी के साथ भी 12 वर्ष रहे थे और इसका नाम उंन्होने सत्याग्रह आश्रम भी रखा था यहाँ पर गाँधी जी पशुपालन, खेती बाड़ी किया करते थे | यह अस्राम साबरमती नदी के किनारे है ,इसके पास में थोड़ी दुरी पर महर्षि दधिची का आश्रम भी है जिसको पाठशाला कके नाम से भी लोग जानते है अहमदाबाद में गाँधी जी का घर भी है,टेक्सटाइल का केलिको संग्रहालय,हिलती मीनारें,कांकरिया झील,अदलज बावड़ी,भद्र किला दार्शिनिक स्थल है |

शहर के पुराने हिस्से को यूनेस्को द्वारा विरासत स्थल घोषित किया गया है। यह शहर स्मारकों, मंदिरों, मस्जिदों, मकबरों, बगीचों और संग्रहालयों से युक्त है, जो पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं। अहमदाबाद के लिए प्रसिद्धि का एक अन्य दावा महात्मा गांधी के साथ इसका संबंध है और शहर से बहने वाली साबरमती नदी आपको प्रतिष्ठित दांडी मार्च की याद दिलाती है, जो भारतीय स्वतंत्रता में अपनी भूमिका निभाने वाले शहर का प्रमाण है।

साथियों अहमदाबाद अपनी वास्तु कला के पहचाना जाने वाला विशाल शहर है | जो गुजरात का सबसे बड़ा शहर होने के साथ नगर के सातवे नंबर पर है जो अपनी ओधोगिकी के लिए पूरे देश भर में जाना जाता है | अहमदाबाद एक सबसे लोक प्रसिद्ध शहर है जहाँ पर घूमना सभी लोगो को बहुत अच्छा लगता है अहमदाबाद में लोग अपने परिवार के साथ हफ्तों के लिए रुकने का प्लान करते है और दिनों को बड़ी उत्साह के साथ बिताते है | इस शहर को अपने भारत का मैनचेस्टर भी कहा जाता है |

भाषा:गुजराती

अहमदाबाद की संस्कृति
अहमदाबाद अपनी रंगीन संस्कृति के लिए जाना जाता है।त्योहारों को एक जुनून के साथ मनाया जाता है और पतंगबाजी एक खेल से ज्यादा एक धर्म है।नृत्य और संगीत के लिए शहर का प्यार नवरात्रि के नौ दिनों में सुर्खियों में है।जबकि दीवाली और होली जैसे त्योहारों को बाकी त्योहारों के साथ समान रूप से मनाया जाता है|

अहमदाबाद का भूगोल
अहमदाबाद, जिसे कभी-कभी अमावाद भी कहा जाता है, गुजरात के उत्तरी भाग में साबरमती नदी के तट पर बसा है।समुद्र तल से 53 मीटर की औसत ऊंचाई पर स्थित है

साबरमती, जो पूरे शहर से होकर बहती है, शहर की पहचान के लिए अपरिवर्तनीय रूप से बंधी हुई है।हालांकि एक बारहमासी नदी, गर्मियों में एक छोटी सी धारा में सिमट जाती है।

साबरमती शहर को दो भागों में बांटती है।जबकि पुराना शहर नदी के पूर्वी तट पर फैला हुआ है, पश्चिमी पक्ष अमदवाद का आधुनिक चेहरा है।पुराने शहर में शहर के सभी ऐतिहासिक स्थलों के साथ-साथ इसका मुख्य रेलवे स्टेशन भी है।नए पक्ष में आधुनिक इमारतें, आधुनिक मॉल, मल्टीप्लेक्स, सुनियोजित आवासीय क्षेत्र और शहर के नए व्यापारिक जिले शामिल हैं।

अहमदाबाद घूमने का सबसे अच्छा समय

अहमदाबाद के दौरे के लिए सर्दियों का सबसे अच्छा समय है। नवंबर और फरवरी के बीच, तापमान 15 से 35 डिग्री सेल्सियस के बीच होता है और शुष्क मौसम सही दर्शनीय स्थलों की स्थिति के लिए बनाता है।

अहमदाबाद के पर्यटन, दर्शनीय स्थल

  1. साबरमती आश्रम
  2. भद्रा का किला
  3. अदलज स्टेप वेल
  4. अक्षरधाम मंदिर
  5. कांकरिया झील
  6. कमला नेहरू चिड़ियाघर
  7. जुमा मस्जिद
  8. कैलिको वस्त्र संग्रहालय
  9. झुला मिनारा
  10. सिदी सैय्यद मस्जिद