राष्ट्रपति भवन

1911 के दिल्ली दरबार में यह निर्णय लिया गया कि भारत की राजधानी को कलकत्ता से दिल्ली स्थानांतरित कर दिया जाएगा। इस प्रकार दिल्ली शहर का जन्म हुआ, जिसे महान वास्तुकार एडविन लुटियन ने हर्बर्ट बेकर के साथ मिलकर डिजाइन किया था। नई दिल्ली के निर्माण में लगभग 20 वर्ष और 15 मिलियन पाउंड लगे।