भिलाई

भिलाई

छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले मे इस जगह को भिलाई कहा जाता है| रायपुर और भिलाई के बीच की दूरी 25 किलोमीटर है| सेल नाम का प्रसिद्ध स्टील प्लांट जो कि भिलाई स्टील प्लांट है जिसे भारत के सबसे बड़े स्टील प्लांटो मे भी गिनते है| यह अलग और एकांत गावं था| हालाँकि 1955 मे यहाँ स्टील प्लांट की स्थापना ने सुदूर गावं से बदलकर छत्तीसगढ़ राज्य का दूसरा सबसे बड़ा शहर बना दिया| शिक्षा के मामले मे भिलाई पीछे नही है भिलाई के निवासी अलग – अलग धार्मिक पृष्ठभूमि के और अलग – अलग मूल के है| टंडुला एक बांध है जो टंडुला नदी के ऊपर बनाया गया है| यह एक अद्भुत पिकनिक स्थल है इसे मानव निर्मित चमत्कार के रूप मे जाना जाता है गंगा मैया मंदिर सिया देवी मंदिर जैसे मंदिर इस स्थान को सुशोभित करते है| भिलाई स्वामी विवेकानन्द तकनीकी विश्वविध्यालय जैसे लोकप्रिय से तकनीकी शिक्षा को बढ़ावा देने वाला एक शैक्षिक केन्द्र भी है जो इसका पहला तकनीकी शैक्षणिक संस्थान भी है| दुर्ग और भिलाई के कुछ क्षेत्र शीर्ष इंजीनियरिंग कॉलेजो के लिए प्रसिद्ध है बिभिन्न धर्मो के लोग भिलाई मे निवास करते है|भिलाई मे प्रसिद्ध मैत्रीबाग भिलाई स्टील प्लांट द्वारा प्रबंधित किया जाता है| मैत्रीबाग का अर्थ ‘मैत्री उद्यान, है| इसमे एनिमल पार्क, चिड़ियाघर और संगीतमय फव्वारे है| चिड़ियाघर का निर्माण भिलाई इस्पात संयंत्र द्वारा किया गया था| इस प्रकार विविध त्यौहार मनाये जाते है| जैसे बंगाल की दुर्गा पूजा, कर्नाटक की उगादी, महाराष्ट्र की गणेश चतुर्थी, तमिलनाडु की पोंगल और ईद| अन्य मैत्री बाग, हनुमानजी मंदिर, सिद्धि विनायक मंदिर, बालाजी मंदिर आदि जैसे सुंदर मंदिर शामिल है|

भिलाई क्यों जाए

मंदिर , पिकनिक स्थल |

भिलाई घूमने का सबसे अच्छा समय

भिलाई जाने के लिए सबसे अच्छा मौसम अक्टूबर से मार्च के महीनो मे सर्दियो का मौसम है। तापमान सहज रहता है और दर्शनीय स्थलो और अन्य गतिविधियो के लिए उपयुक्त है।

भिलाई के पर्यटन, दर्शनीय स्थल

  1. मैत्री बाग
  2. हनुमानजी मंदिर
  3. सिद्धि विनायक मंदिर
  4. बालाजी मंदिर
  5. सुंदर मंदिर |