बैकुंठपुर

बैकुंठपुर

कोरिया जिले मे छत्तीसगढ़ का एक जिला शहर बैकुंठपुर जो 529 मीटर जगह की ऊँचाई है| यह स्थान भगवान विष्णु के नाम से भी प्रसिद्ध है जिसे भगवान बैकुंठ नाथ (स्वर्ग का भगवान) भी कहते है| यह मुख्य रूप से अपने उत्कृष्ट कोयला भण्डार के लिए प्रसिद्ध है| इस स्थान की अन्य लोकप्रिय विशेषताएं दुर्गा पूजा और फूटबाल टूर्नामेट का त्यौहार है, जो राष्ट्रीय स्तर पर होता है| मूल रूप से कोरिया ब्रिटिश शासन के दौरान भारत की एक रियासत हुआ करता था| इस रियासत का बिभाजन 25 मई 1988 को सर्गुजा जिले से हुआ| कई नदियाँ जैसे गोबरी, गोपद, तीज और हसदेव बेसिन के पूरे क्षेत्र मे बहती है| बांस, खैर, गमर, शीशम, साल, महुआ, तेंदू और कई अन्य पेड़ो के घने जंगल, बेसिन को घेर लेते है| इस शहर के क्षेत्र मे कोयले, लाल ऑक्साइड, चूना पत्थर और अग्नि मिटटी के प्रचुर भण्डार पाए जाते है| इस शहर मे और इसके आसपास के कुछ प्रमुख पर्यटन स्थल अमृत धारा जलप्रपात, गवर घाट जलप्रपात और रामधरा जलप्रपात है| यह क्षेत्र नवाखाई, गंगा दशहरा, चारता और सुरहुल जैसे त्योहारो को भव्य तरीके से आयोजित करता है| इस जगह यात्रा करने का अक्टूबर और नवम्बर के महीने सही समय है|यह जगह अपने त्योहारो जैसे नवाखाई, चर्ता और गंगा दशहरा मे उत्सव के लिए प्रसिद्ध है| चूँकि बैकुंठपुर एक छोटा शहर है यहाँ उपलब्ध भोजन में छत्तीसगढ़ के प्रसिद्ध व्यंजन शामिल है| यह जलेबियो और पेठे को आजमाना चाहिये| लगभग हर घर मे जलेबी को भोजन के बाद मीठे व्यंजन के रूप मे परोसा जाता है| और मीठी रेसिपी जिसे बाफौरी कहा जाए जो चना दाल से बनी हो| यह किसी भी रेस्तरां या मिठाई की दुकान पर आसानी से उपलब्ध होगा|

siting in baikunthpur

अमृत धारा फॉल्स

गवर घाट फॉल्स

रामधारा फॉल्स

मणिपुर|

बैकुंठपुर क्यों जाए

कोयला भण्डार के लिए , कई नदियाँ |

बैकुंठपुर घूमने का सबसे अच्छा समय

इस जगह यात्रा करने का अक्टूबर और नवम्बर के महीने सही समय है |