अंबिकापुर

अंबिकापुर

जंगलो और पहाडियो का एक स्थान छत्तीसगढ़ मे अंबिकापुर एक प्राचीन शहर है| जो रामायण और महाभारत के पौराणिक महाकाव्यो से मिलता है| यह व्यापक रूप से माना जाता है| कि भगवान राम, लक्ष्मण और सीता अपने 14 साल के दौरान इस क्षेत्र मे आए थे|सुन्दर नजारो वाले इलाको से कई नदियाँ बहती है| जो प्राक्रतिक परिद्रश्य को जोड़ती है| इस क्षेत्र के लिए कृषि राजस्व का मुख्य स्त्रोत है और कोयला और बॉक्साइट जैसे खनिज संसाधनो का भी बड़े पैमाने पर खनन किया जाता है| स्थानीय लोग पीढ़ीयो से यहाँ निवास कर रहे है और ज्यादातर पंडो और कोरवा जनजातियो के है| उनका मानना है कि वे महाभारत से पांडवो और कौरवो के वंशज है| पहाडियो, पहाड़ो, गुफा मंदिरो, झरनो और इस तरह के अन्य आश्चर्यजनक आकर्षणो के साथ यह कोई आश्चर्य नही है कि यह राज्य पर्यटन मानचित्र पर अपनी पहचान बना रहा है| लगभग 12 वी शताब्दी के कलचुरी युग से सम्बधित सर्गुजा क्षेत्र मे महामाया मंदिर संभवतः क्षेत्र मे सबसे अधिक देखा जाने वाला पर्यटन और धार्मिक स्थल है| देवी लक्ष्मी और सरस्वती को समर्पित प्राचीन मंदिर की वास्तुकला सबसे बड़े ड्रा मे से एक है| जिसके पास एक सुंदर बूढ़ा मंदिर है। सेमरसोत हिल मे एक शिवलिंग के साथ एक गुफा मंदिर है जो पूरे साल कई भक्तो द्वारा रोमांचित किया जाता है। रामगढ़ हिल, पवई झरना और तमोर पिंगला वन्यजीव अभयारण्य अन्य प्राकृतिक पर्यटन स्थल है जहाँ आप अंबिकापुर की यात्रा का आनंद लेने के लिए बाध्य है।

यहाँ करने के लिए चीजे

थीम: ऐतिहासिक

अवश्य जाएँ स्थानो: बुद्ध मंदिर, सेमरसोत कैलाश गुफ़ा

अंबिकापुर मे साइटिंग

टाइगर पॉइंट वाटरफॉल

पाताल भैरव मंदिर

बुद्ध मंदिर

भैयाथान दिपाडीह

शिवपुर शिव मंदिर

कैलाश गुफा

बुद्ध मंदिर

पवई वाटर फॉल

नागेश्वर शिव मंदिर

कुदरगढ़ी देवी|

अंबिकापुर क्यों जाए

जंगलो और पहाडियो , कई नदियाँ , पहाड़ो , गुफा मंदिरो , झरनो |

अंबिकापुर घूमने का सबसे अच्छा समय

सर्गुजा तापमान और मौसम का पूर्वानुमान विवरण |

अंबिकापुर के पर्यटन, दर्शनीय स्थल

  1. एक सुंदर बूढ़ा मंदिर
  2. रामगढ़ हिल
  3. पवई झरना
  4. तमोर पिंगला वन्यजीव अभयारण्य |