औरंगाबाद

औरंगाबाद

ओरंगाबाद एक बहुत ही प्राचीन सबसे निराला अजंता और एलोरा गुफाओं का बहुत आकर्षण वाला शहर कहलाता है| महाराष्ट्र का सबसे बड़ा शहर होने के कारण इसकी स्थापना 1610 में महाराष्ट्र में मलिक अंबर ने की थी| आने के बाद सभी पर्यटक सबसे पहले एलोरा गुफाओं के घर औरंगाबाद महाराष्ट्र के सम्रध पर्यटन स्थलों में से एक है| औरंगाबाद में बौद्ध धर्म ने अपनी विरासत, जीवन शैली और नैतिकता का पोषण करने के लिए अच्छा समय देखा हैमहलों, मकबरों और पार्को से सुशोभित यह शहर इतिहास और वास्तु कला के लिए भी जाना जाता है| औरंगाबाद दौरों के दौरान, आप खुल्ताबाद, पिटकुलोरा, पैठान, दौलताबाद और शिरडी जैसे अन्य स्थानों पर घूमनें के लिए प्रसिद्ध है औरंगाबाद धातु के सामानों का एक शानदार संग्रह है| जो अहमदनगर के निज़ाम शाही शासकों के लिए प्रचलित है| यहाँ मूर्ति कला के साथ साथ महलो पर रंगीन चित्रकारी भी की जाती है|औरंगज़ेब मकबरा ज़ैन-उद-दीन परिसर के दक्षिण-पूर्व कोने पर सीधा खड़ा हुआ अपनी खूबसूरती से पर्यटकों को अपना दीवाना बना रहा है जहाँ सिर्फ भारत से ही नहीं बल्कि देश के कोने कोने से पर्यटक एक लम्बी छुट्टी के लिए आते है|

औरंगाबाद क्यों जाए

देव कुंड,अमझर शरीफ दरगाह ,उमगा सूर्य मंदिर,पवई माली, चंदनगढ़ के किले,पिरू और सिरिस,देव सूर्य मंदिर, दाऊद खान का किला,देव राज किला

औरंगाबाद घूमने का सबसे अच्छा समय

यहां आने का सबसे अच्छा समय अक्टूबर से मार्च तक है क्योंकि मौसम बहुत सुखद रहता है और यात्रा करने के लिए अनुकूल है

औरंगाबाद के पर्यटन, दर्शनीय स्थल

  1. देव कुंड
  2. अमझर शरीफ दरगाह
  3. उमगा सूर्य मंदिर
  4. पवई माली
  5. चंदनगढ़ के किले
  6. पिरू और सिरिस
  7. देव सूर्य मंदिर
  8. दाऊद खान का किला
  9. देव राज किला

कैसे पहुंचे औरंगाबाद


सड़क मार्ग द्वारा

पटना से औरंगाबाद सड़क मार्ग द्वारा 140 किलोमीटर और रांची से 231 किलोमीटर दूर स्थित है

रेल मार्ग द्वारा

अनुग्रह नारायण रोड (AUBR) निकटतम रेलवे स्टेशन है जो औरंगाबाद शहर से लगभग 9 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है

हवाई मार्ग द्वारा

निकटतम हवाई अड्डा पटना में लोक नायक जयप्रकाश हवाई अड्डा 61 किलोमीटर की दूरी पर है