राजधानी:
ईटानगर
स्थान:
पूर्वी भारत
अरुणाचल प्रदेश घूमने का सबसे अच्छा समय:
अरुणाचल प्रदेश की यात्रा के लिए अक्टूबर से अप्रैल एक आदर्श समय है।
अरुणाचल प्रदेश क्यों जाएँ ?:
विशाल पर्वत, बर्फ से ढंकी चोटियां, जनजातियां और उप जनजातियां, सिन्यी बोमडिला, तवांग और ग्याकर के लिए प्रसिद्ध
भाषा:
अंग्रेजी

बर्फ से ढकी पहाडो कि चमचमाती चोटी खुबसूरत हसीं वादिया मदमस्त कर देने वाले झूमते जंगल कलकल बहेता घुमाव दार पानी बौध साधूओ के भजन कि सुरीली आवाज ये सब भारत के इस खुबसूरत राज्य अरुणाचल प्रदेश मे देखने को मिलता है यहाँ के लोग बहुत सीधे सादे तथा महमान नवाजी करने वाले होते है यहाँ कि सबसे जादा खास बात है कि यहाँ पर २६से जादा जनजातियाँ निवास करती है और वो अपनी कला तथा सस्क्र्ती से आज भी जुड़े हुए है यहाँ पर कई पराक्र कि भाषाए बोली जाती है इसके साथ साथ यहाँ कई जनजातियाँ अपने त्यौहार और पर्व बड़े धूम धाम से मनाती है यहाँ का सबसे प्रमुख त्यौहार लोसार है जो बड़े उल्लास से मनाया जाता है ये राज्य एक केद्र शासित प्रदेश है यहाँ हिन्दी भासा के साथ साथ अग्रेजी को भी रास्ट भाषा का दर्जा दिया गया है

यहाँ कि राजधानी ईटानगर है इस राज्य कि स्थापना २० फरवरी १९८७ को कि गयी थी यह भारतीय संघ का२४व राज्य माना जाता है कहा जाता है कि प्रकति ने अरुदाचल प्रदेश को अपने हाथो से सजाया है यही वजह है कि यहाँ कि सरकार पयर्टको को बढ़ावा देने के लिए विशेष अभियान चला रही है ये भारत यहाँ पर सबसे पहले सूर्य उदय होता है नदिया,हरे भरे जंगल सुंदर पहाड़िया ,दुरलभ जड़ी बूटिया यहाँ कि विसेषता का बखान करती है और यहाँ कि धरोहर मानी जाती है यहाँ के लोग प्राकतिक सक्तियो मे विशेष आस्था रखते है यहाँ कि अर्थ वाव्स्था का आधार खेती है यहाँ कि ८०/ जनता कृषि कार्यो मे लगी हुयी है ये भारत का तीसरा सबसे कम आबादी वाला राज्य है यहाँ पर ब्रम्हपुत्र नदी बहती है जिसे यहाँ पर सियंकी नाम से जाना जाता है यहाँ त्योहारों मे पसुओ कि बलि चढाने कि प्रथा है यहाँ अर्थ वाव्स्था झूम खेती पर आधारित है यहाँ पर लटकते हुए बॉस का पूल सियांग घाटी के ऊपर बना एक पारम्परिक ब्रिज है जिसे रस्सी और बॉस से बनाया गया है ये कला यहाँ का एक खुबसुरत नमूना है सेला दर्रा यहाँ पर सबसे जादा देखने वाली जगह है यह दुनिया के ऊच्यीउ चाई वाले साथ्नो मे से एक है यहाँ पर सर्दियों के समय झील बर्फ जैसी जम जाती है जो देखने मे बहुत सुंदर प्रतीत होती है २००७ से यहाँ का हर गाव सड़क से जुड़ गया और हर छोटे कसबे मे बस स्टेसन बन गया यह हर दिन बस कि सुबिधा उपलब्ध है ये भारत का एक ऐसा राज्य है जहा पर अग्रेजो कि सत्ता कभी पहुच नही पायी यही वजह है कि यह जगह अग्रेजो के प्रवाह से मुक्त है और यह पर आपको कोई अग्रेज सरचना नही दिखाई देगी

how to reac Arunachal Pradesh कैसे पहुंचे अरुणाचल प्रदेश

कैसे पहुंचे अरुणाचल प्रदेश

  • Flight Icon 260 किमी की दूरी पर स्थित तेजपुर हवाई अड्डा सबसे अधिक अच्छा है और आप कोलकाता या गुवाहाटी हवाई अड्डे पर पहुँच कर अरुणाचल प्रदेश के लिए टैक्सी ले सकते हैं।
  • Car Icon राज्य परिवहन और निजी बसें प्रभावी मॉडल पर चलती आसपास के राज्यों के पर्यटन स्थलों के साथ कनेक्टिविटी उत्कृष्ट है। और बिना किसी परेशानी के आप जा सकते है |
  • Train Icon ईटानगर के सबसे नजदीक हरमुटी ट्रेन स्टेशन असम है जो लगभग एक घंटे की ड्राईव करके जिसका अनुमान 43 किमी है।

Most Viewed