ऋषिकेश टूरिस्म : बंजी जंपिंग, फ्लाइंग फॉक्स, माउंटेन बाइकिंग जैसे खेलो और फूलो से भारी हरियाली हरी भारी घास का मजा लेना है तो आइये ऋषिकेश

भारत  का सबसे सुंदर और भव्य खेलो का एकमात्र स्थान जो है हिमालय की तलहटी पर बसा जहा का पानी है बिलकुल सफेद और प्रकिर्तिक और आस्था का बहुत विशाल केंद्र है ऋषिकेश 

अगर आप भी अपने ही भारत की कम पैसो और अच्छी जगह पर घुमने का प्लान बना रहे है और सबके मन को पसन्द आने वाला शहर  है ऋषिकेश और साथ ही दर्शन करे यहाँ के सुंदर सुंदर मंदिरों के और  पुरानी अपनी संस्कृति को दर्शाती यहाँ की इमारतें और यहाँ के मंदिरों की निकासी तो आपका मन मोह लेगी और वहा के शालीनता से निर्मित  राफ्टिंग आपकी यात्रा को रोमांचक और जहा हर समय जाने आने वालो की टोली बनी रहती है और यहाँ पर ऋषिकेश में शिवजी के बहुत  प्रसिद्ध मंदिर और बड़ी बड़ी मूर्तिया जिनको देखकर असा प्रतीत होता है कि यह अभी बोलने वाली है और हर जहा फूलो से भारी हरियाली हरी भारी घास और सुहावने वृक्ष जिन पर हर समय कोयल और अन्य पक्षी अन्य पक्षी अपनी मधुर मीठी आवाज़ से मनमुग्ध कर देते है ऋषिकेश मे आपको शुद्ध और साफ शाकाहारी भोजन और मदिरा का सेवन करना मना है 

ऋषिकेश टूरिस्म : बंजी जंपिंग, फ्लाइंग फॉक्स, माउंटेन बाइकिंग जैसे खेलो और फूलो से भारी हरियाली हरी भारी घास का मजा लेना है तो आइये ऋषिकेश

यहाँ पर आप बंजी जंपिंग फ्लाइंग फॉक्स माउंटेन बाइकिंग जेसे खेल यहाँ लोगो को लुफ्त लेने के लिए रोक लेते है

कैसा है ऋषिकेश का नज़ारा

दोस्तों आप यहाँ का नज़ारा देख कर बहुत ही दंग रह जाओगे यहाँ पर हल्का लालिमा सा मौसम और बीच मे बहती नदिया और उसमे सबसे आकर्षण वाला वह का बहता हुआ नीला सफ़ेद पानी और दोनों तरफ लोग की करोड़ो की भीढ़ और फिर वहा पर नदियों के दोनों तरफ बनी सीडिया और उनपर बैठ कर्हाथ पी पानी मे छप छप करते लोग और नदियो के किनारे से जमी हरियाली और फूल माला खाने का सामान और पूजन सामग्री और कोडी बेचते लोग और यहाँ पर शाम को बहुत बड़ी भव्य आरती होती है यहाँ के विशाल तीर्थ स्थानों पर और सबसे अलग नज़ारा होता है जो पानी से काफी ऊचाई आने जाने के लिए एक दोनों तरफ की सीरियो के ऊपर यहाँ पर अरस्त बनी है जो तार और बॉस से बनी है यहाँ से आप इस पार से उस पार जा सकते है और जब नीचे देखेगे तो नदी का बहता हुआ शीतल जल दिखाई देगा इस रास्ता को यहाँ लक्ष्मण झूला कहते है |

कमी नहीं है यहाँ पर्यटन के दर्शानिये स्थलों की

  • गढ़वाल हिमालय यहाँ का सबसे खास पर्यटन स्थल है जो ऋषिकेश उतरा खंड में देहरादून जिले मे बना है जो बहुत ही प्रसिद्ध है यह शहर उतर भारत से लगभग 25 किलोमीटर और राजधानी यहाँ से 43 किलोमीटर दक्षिण के पूरब मे बना है जहाँ पुराने समय मे ऋषि मुनियों नै यहाँ पर आकर ध्यान करते थे
  • यहाँ की देखने लायक जगह यहाँ की पूरे विश्व मे मशहूर है यही पर गंगायमुनासरस्वती नदियों का संगम है जो नदिया अपने हिन्दू धर्म मे सबसे ज्यादा पवित्र मानी जाती है और यहाँ पर दुबकी लगा कर नहाने से लोगो को अंतर्मन से शांति मिलती है |
  • सबसे अच्छी यहाँ की राफ्टिंग आप यहाँ आकार राफ्टिंग करके मौज मस्ती कर सकते है| यहाँ पर राफ्टिंग के लिए मानो भीढ़ लगी रहती है | और यहाँ पर कुछ यहां कुछ सर्टिफाइड ऑपरेटर हैंजो देखभाल के लिए रहते है| और आप अगर स्ट्रेस फ्री आउटिंग चाहते हैं तो आपके भोजन पानी और राफ्टिंग की व्यवस्था संचालकों द्वारा की जाती है।
  • यहाँ का स्वर्ग जैसा स्वर्ग आश्रम यहाँ पर काफी बड़ी जगह मे बना है जिसको विशुद्धानंद की याद में बनवाया गया था|राम झूलाऔर लक्ष्मण झुला के बीच बना यह सबसे पुराना आश्रम है और यहाँ पर जो स्वामी जी थे वो हमेशा काले कम्बल ओढ़ कर रहते थे इसलिए उनको काली कमली वाला भी कहते है |
  • नीलकंठ महादेव मंदिर ऋषीकेश में देखने योग्य स्थल यहाँ पर ऋषिकेश से थोड़ी दूर बना यह नीलकंठ महादेव का मंदिर यहाँ से लगभग 12 किलोमीटर दूर बना है और यहाँ पर यह मंदिर सिलिवन बीच के 1670 मीटर मे बना है| और यहाँ पर समुन्द्र मंथन की गाथा कही जाती है | और यहाँ पर हमेशा तजा जल आपको स्नान और नहाने के लिए मिलेगा |
  • यहाँ की सबसे हटके है बंगी जम्पिंग पर्यटकों आपको यहाँ पर जिन लोगो को खतरे से डर नहीं लगता है उन लोगो के लिए यह बंजी जम्पिंग है और जम्पिंग हाइट्स की टीम बंजी जम्पिंग फ्लाइंग फॉक्स और विशाल झूलों जैसे विभिन्न साहसिक को मौका देती है |
  • यहाँ पर बना बीटल्स आश्रम है जहा पर काफी सारी साधुओ की कुटिया बनी है और जब यहाँ की शुरुवात थी तब इस आश्रम को महर्षि योग ऋषि आश्रम के नाम से लग जानते थे |और सन १९६८ मे बीटल्स में यहाँ पर यह आश्रम अब राजाजी नेशनल पार्क में स्थित एक ईको-फ्रेंडली पर्यटक आकर्षण है और गंगा नदी के निकट स्थित एक शांत वातावरण प्रदान करता है।
  • दोस्तों ऋषिकेश में देखने वाली जगह जहा लोग सबसे पहले आते है यहाँ का ऋषि कुण्ड यह एक सदा पानी का प्रकिर्तिक जल का तालाब है जहा पर यमुना नदी का आशीर्वाद बहता है| और यहाँ पर भगवान राम नै भी बनवास के समय स्नान किया था और यही पर गंगा यमुना नदिया एक दुसरे से बसे मिलती है और और यह कुंद काफी सकून भरा है |

किन वाहनों से कर सकते है ऋषिकेश की यात्रा

ऋषिकेश की यात्रा पूरी आप पर्यटकों हवाई मार्ग बस ट्रेन और अपने वहां से भी जा सकते है ऋषीकेश का सबसे पास का एअरपोर्ट अड्डा जॉली ग्रांट देहरादून मे है और यहाँ से फिर आप ऋषिकेश से 35 किलोमीटर दूर है आप फिर दिल्ली लखनऊ से हवाई जहाज से जा सकते है और बाद मे फिर देहरादून है |और फिर यहाँ से बस टैक्सी करके जा सकते है |और फिर बस हरिद्वार देहरादून और नई दिल्ली भी ऋषीकेश जा सकते है | ऋषीकेश का सबसे पास का स्टेशन हरिद्वार है जो 25 किलोमीटर दूर है और यह स्टेशन मुंबई दिल्ली कोलकाता लखनऊ और वाराणसी से रेलमार्ग द्वारा जुड़ा हुआ है |और फिर वह से बस या ट्रेन से जा सकते है |

ऋषिकेश टूरिस्म : बंजी जंपिंग, फ्लाइंग फॉक्स, माउंटेन बाइकिंग जैसे खेलो और फूलो से भारी हरियाली हरी भारी घास का मजा लेना है तो आइये ऋषिकेश क्यों जाए

योग, तीर्थयात्रा, राफ्टिंग,एडवेंचर स्पोर्ट्स, मंदिर, आश्रम

ऋषिकेश टूरिस्म : बंजी जंपिंग, फ्लाइंग फॉक्स, माउंटेन बाइकिंग जैसे खेलो और फूलो से भारी हरियाली हरी भारी घास का मजा लेना है तो आइये ऋषिकेश घूमने का सबसे अच्छा समय

गर्मियों या वसंत का मौसम मार्च से जून तक सुंदर


कैसे पहुंचे ऋषिकेश टूरिस्म : बंजी जंपिंग, फ्लाइंग फॉक्स, माउंटेन बाइकिंग जैसे खेलो और फूलो से भारी हरियाली हरी भारी घास का मजा लेना है तो आइये ऋषिकेश


सड़क मार्ग द्वारा

आप बस से जा सकते हैं या ऋषिकेश पहुँचने के लिए कार और कोच जैसे निजी वाहनों को किराए पर ले सकते हैं। हरिद्वार, देहरादून और नई दिल्ली जैसे शहर हर रोज बसों द्वारा कवर किए जाते हैं ।

रेल मार्ग द्वारा

हरिद्वार और ऋषिकेश के बीच एक धीमी शटल ट्रेन इसे भारत के प्रमुख शहरों से जोड़ती है। इनमें दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, लखनऊ, वाराणसी, देहरादून और कई अन्य शामिल हैं। आप देहरादून शताब्दी और फिर ऋषिकेश के लिए टैक्सी या बस किराए पर लेकर हरिद्वार जा सकते हैं ।

हवाई मार्ग द्वारा

देहरादून, जॉली ग्रांट हवाई अड्डा हरिद्वार से 35 किमी दूर है। यहां से, आप शहर तक पहुंचने के लिए बस या टैक्सी ले सकते हैं।