देहरादून टूरिज्म: आज ही निकले देहरादून के सफ़र पर जो है सबसे सस्ता और सुंदर हर्शाने वाला है

देहरादून जो उतराखंड की राजधानी है जो अपनी सुन्दरता और आकर्षण के कारण अपने आप में खास और यहाँ की पहाड़ी जहा से दूर दूर तक का दृश्य दिखाई देता है कहते है यहाँ पर्यटक आकार शांति और सकून का वातावरण महसूस करते है देहरादून भारत की दून घाटी में बसा है और जो भारत का एक धार्मिक स्थलों में से सभ्यता और संस्कृति का विशाल केंद्र माना जाता है जहा पर लोग अपने परिवार दोस्तों और जोड़े के साथ जाना पसंद करते है उतराखंड जिले की भूमि पर बसा एक समुन्द्र तल से लगभग 1400 फिट ऊची है देहरादून बहुत बड़ा और काफी जगह में फैला हुआ शहर है वहा पर 4 कालेज डीएवीपी पीजी कॉलेज, डीबीएस कॉलेज, केपी पीजी गर्ल्स कॉलेज और एसजीआरआर पीजी कॉलेज है जो शिक्षा का भी बहुत बड़ा स्थान है और उन्नति पर भी है

और यहाँ क्या है और स्थानों से अलग

यहाँ पर सहस्त्रधारा जो है लगभग देहरादून यहाँ पर झरने, गुफाएं, सीढियां चूना पत्थर के स्टैलेक्टाइट्स जो है सबसे अलग और रॉबर की गुफा जो 9 किलोमीटर की दुरी पर जो है 600 मीटर लंबी नदी जिस गुफा को पर्यटक गुच्चुपानी के नाम से भी जानते है यहाँ का लच्छीवाला तो मनो स्वर्ग जैसा है पिकनिक का शानदार स्पॉट है यह एक लम्बी ड्राइव पर बना है

यहाँ का मिन्ड्रोलिंग मठ उद्यान, बड़े क्षेत्र, और एक स्तूप पर्यटक स्थल पर्यटक स्थल जो है तिब्बत में निंगम्मा स्कूल के छह प्रमुख मठों में से एक और यह किसी आश्चर्य से कम नहीं है और हर की धुन से भरी हर की दून देहरादून भी यह घाटी लगभग इस घाटी की ऊंचाई समुद्र तल से 3,566 मीटर हैं। यहाँ लोगो के लिए ट्रैकिंग ब्रमण और “देवताओं की घाटी” कहा जाता है और से फेमस यहाँ की फन वैली जहा पूरे परिवार के साथ सभी लोग उत्साह पूर्वक दिन बिताये और, बहु-व्यंजन रेस्तरां, कियोस्क, रोमांचकारी सवारी का आंनंद ले यहां सम्मेलन कक्ष, पार्टी हॉल और शानदार कॉटेज जेसे सुविधा आपको हर समय मिलेगी और यहाँ का मालसी डियर पार्क जहा सींग वाले हिरण, मोर, बाघ, नीलगाय और बहुत सारे जानवरों के रहने का स्थान है और यहाँ पर टपकेश्वर मंदिर,जोनल म्यूजियम,तपोवन मंदिर,वन अनुसंधान,ट्रेकिंग,पल्टन बाजार,चेटवुड हॉल,राष्ट्रीय उद्यान, है

देहरादून में क्या खास हैं

देहरादून में सहस्त्रधारा एक मन को हर्षाने वाली जगह है जो देहरादून से थोड़ी दूरी पर है जिसकी दुरी मापी जाये तो लगभग 11 किलोमीटर होगी यहाँ पर अलग अलग प्रकार के प्रकिर्तिक झरने है जिनको प्रक्रति ने खुद सजाया है,यहाँ पर ऐसा तालाब है जो पत्थर से बना है इस तालाब में छोटे बड़े पत्थर मिले हुए है चारो तरफ और बीच में पानी भरा है और पानी अन्दर भी बैठने के लिए पत्थर है, पास में ही थोड़ा आगे चलकर गहरी गुफाए भी हैसहस्त्रधारा का शाब्दिक अर्थ ” द थाउजेंड फोल्ड स्प्रिंग” हैं।,सबको पसंद आने वाली सीढिया अनाज को उगाने के लिए खेती की जमीन भी है यह स्थान उन झरनों और गुफाओं के लिए भी जाना जाता हैं जिनमे पानी चूना पत्थर के स्टैलेक्टाइट्स से बहता है यह स्थान हर समय अन्य जाने वाले ल्लोगो के लिए खुला रहता है

देहरादून की राबर की गुफ़ा

राबर की गुफा लगभग देहरादून से 9 किलोमीटर दूर है जो बहुत समय से यहाँ पर अलग जनि जाती है प्राचीन और अद्भुत गुफा है जो भ्रमण वाले पर्यटकों को अपनी तरफ खेचती है कुछ लोग इस गुफा को गुच्चुपानी के नाम से भी जानते है, इस गुफा को 2 भागो मामी बाट दिया गया है यह प्रकर्ति की बनावट है और जब से कुछ समय पहले की बात है जब यहाँ पर ब्रिटिश साम्राज्य के लोग आकर छुप गए थे तब से एस गुफा को गायब होने का स्थान भी कहाँ जाता है,यहाँ पर आप बिना कोई शुल्क दिए घूम सकते है

देहरादून का लच्छीवाला

देहरादून में लोग लच्छीवाला में अपने पूरे परिवार के साथ मिलकर पिकनिक मनाते है क्योकि यह एक पिकनिक डेस्टिनेशन माना जाता है यहाँ की हरियाली तो क्या कहने है यह स्थान बहुत समय से यहाँ पर चर्चा का विषय है की लोग यहाँ आकर बस यही के ही हो जाते है यहाँ पर पहुचने में ज्यादा समय भी नहीं लगता है

फन करने के लिए फन वैली

देहरादून मे बनी फन वैली घर के सभी सदस्यों के मन मुताबिक है झा पर छोटे से लेकर बड़े लोग भी फन कर सकते है जो लोग अपने दोस्तों के साथ जाते है उनको दिन का पता भी नहीं चलता है की कब दिन निकल गया और शाम हो गई है, यह पर अआप अपना पूरा दिन उत्साह के साथ बिता सकते है फन वैली में एक विशाल आंतरिक परिसर, बहु-व्यंजन रेस्तरां, कियोस्क, रोमांचकारी सवारी और आवास स्थान हैं। जिसमें एक शानदार वाटर पार्क, डीलक्स कमरे शामिल हैं।फन का असली मज़ा यही पर है

देहरादून में ख़ुशी से दिन बिताने के लिए अनगिनत स्थान है जिन स्थानों को एक दिन में घूमना मुश्किल है यहाँ मालसी डियर पार्क,टपकेश्वर मंदिर,जोनल म्यूजियम,तपोवन मंदिर,वन अनुसंधान, ट्रेकिंग,पल्टन बाजार,चेटवुड हॉल,राष्ट्रीय उद्यान, है

यहाँ का खाना खजाना सबसे अलग

देहरादून में आने वाला हर व्यक्ति यहाँ स्वाद एक बार चखता है बस उसका दिल बार बार यही का स्वादिष्ट भोजन करने का करता है, क्योकि यहाँ की भोजन से भरी थाली होती है सबसे अलग और प्यार से परोसी जाती है, यहाँ आपको चीनी, इतालवी, दक्षिण भारतीय, थाई, तिब्बती और कॉन्टिनेंटल व्यंजन, हालांकि देहरादून में कई विकल्प मौजूद हैं, लेकिन यहां के स्थानीय व्यंजनों में कंडेली का साग, गहत की दाल, आलू के गुटके, निम्बू, काफली, गुलगुला स्वाद का खजाना है

देहरादून का सफ़र

अगर आपने देहरादून जाने के लिए हवाई मार्ग चुना है तो आपको जानकारी होनी चाहेए की 22 किमी की दूरी पर दक्षिणपूर्व में बना जॉली ग्रांट हवाई अड्डा हैं और इसे देहरादून हवाई अड्डे के नाम से पर्यटक के बना है,ट्रेन से देहरादून जने के लिए दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, लखनऊ, कोलकाता, वाराणसी और वडोदरा से जोड़ता है यहाँ से आप स्टेशन से बाहर आकर ऑटो रिक्शा या टैक्सी किराए पर लेकर देहरादून शहर घूमने जा सकते हैं। बस से देहरादून के लिए एनएच 72 के माध्यम से देश के अन्य प्रमुख शहरों से सड़क मार्ग के जरिए बहुत अच्छी तरह से जुड़ा हुआ हैं। देहरादून में ISBT बस स्टैंड हैं यहाँ से आप देहरादून शहर जा सकते है

Uttarakhand