जाने राजस्थान के पाली पर्यटन के बारे में सब कुछ .. शामिल करे अपनी हिट लिस्ट में ...

दोस्तों आज में आपको ऐसा पर्यटन का स्थान बता रही हूँ जहाँ पर अभी तक पर्यटन के लिए तक बहुत कम लोग पहुँचे है तो आप भी अपना नाम लिस्ट में शामिल कर पहुचे पाली शहर को देखने के लिए ..

साथियों राजस्थान राज्य, पश्चिमोत्तर भारत में है। जहा पर जोधपुर शहर, जोधपुर ज़िले का प्रशासनिक मुख्यालय है । जो जोधपुर शहर के कुछ हिस्से 18वीं शताब्दी के परकोटे से घिरा हुआ है जहाँ पर भिन्न भिन्न प्रकार की सड़के रेल जंक्शन एक अलग-थलग, लेकिन ऊँची चट्टान पर बना हुआ है, जोधपुर इसके उत्तर की दिशा में मारवाड़ की प्राचीन राजधानी मंडौर के चौथी शताब्दी के अवशेष विद्यमान हैं। जोधपुर दाहिने छोर पर बसा हुआ थार मरुस्थल का भाग है

पाली शहर का नाम पालीवाल के ब्राह्मणों को जोड़ता है जिन लोगो ने पहले के समय में यहाँ पर मंडोर के जो मुखिया थे उनसे यह स्थान पट्टे पर रखवा लिया था तभी से इस शहर को लोग इसे पल्ली या पल्लिका के नाम से जाना जाता है थ्दय समय बाद इसको नाडोल जिले का हिस्सा बना दिया गया यहाँ पर इस शताब्दी में चालुक्य वंश और बाद में जालोर शहर के सोंगिरा चौहान वंश ने यहां शासन किया। बाद में यह स्थान एक व्यापर से जुड़ा प्रमुख केंद्र बना दिया गया था फिर कुछ समय बीतने पर इस शताब्दी में चालुक्य वंश और बाद में जालोर शहर के सोंगिरा चौहान वंश ने यहां शासन किया। समय परिवर्तन के साथ यहाँ पर ब्राह्मणों की रक्षा के लिए यहां रहने का फैसला कर लिया। राठौरों ने 1760 ई तक पाली पर शासन किया जिसके बाद यह जोधपुर राज्य का एक अहम हिस्सा बन गया।

सबसे अलोकिक पाली जिले में घुमने के लिए लखोटिया गार्डन

प्रिये जनों यहाँ पर पर्यटन का सबसे सुन्दर स्थान है यहाँ का लखोटिया गार्डन है जो पानी से भरे हुए काफी बड़ी जगह में घिरा हुआ गार्डन है यह बहुत ही विशाल सुन्दर सुन्दर फूलो से सजा हुआ गार्डन है तभी से इसे लोग लखोटिया का बगीचा के साथ में विशाल उद्यान भी कहते है जहाँ पर घूमने के साथ साथ बैठने के लिए भी हरी भरी घास जो पैरो को बहुत आराम दायक होती है लोग अपना ज्यादा से ज्यादा समय निकाल कर सैर करने के लिए आते है

पहाड़ो के बीच में बना पाली का परशुराम महादेव मंदिर

पाली को अरावली की पहाड़ियों को जोड़ता हुआ यह स्थान अरावली पर्वत श्रृंखलाओं के बीच बना है जो यहाँ के देवता परशुराम महादेव भगवान विष्णु जी के 6 वा अवतार माना जाता है यहाँ की कथा यह कहती है की यहां पर आक्रामक कुल्हाड़ी चलाने वाले परशुराम ने ध्यान किया था। अगर आपका मन इस स्थान पर घूमने का है तो आपको फ़िक्र करने की जरूरत नहीं क्योंकि इस मंदिर की यात्रा करना बेहद आकर्षक है। जब आ[प इस स्थान की यात्रा की तरफ कदम बढाएगे तो रास्ते में आपको शीतल जल के कुण्ड,बनस्पतिया,पहाड़ देखने को मिलते है

पाली में बना पर्यटन स्थल बांगुर संग्रहालय

साथियों बहुत ही बड़ी जगह पर बना यह संग्रहालय काफी अद्भुत है जिसमें आप तांबे के सिक्के, पेंटिंग, आर्मरेस्ट और जनजातीय हस्तशिल्प के अदभुद संग्रह को देखने को मिलते है जिनको देखकर मन बहुत खुश होता है कई उपकरण यहाँ पर जो पुरापाषाण काल ​​के हैं। हाथो की कलाकारी ने इस संग्रहालय को सुन्दरता प्रदान की है अलावा बांगुर संग्रहालय में चित्रकला और हथियारों का सबसे शानदार संग्रह हैं, जो राजस्थान की संस्कृति को दर्शाता है पुराने समय के तुगलक, खिलजी,शासकों से संबंधित यहाँ पर सिक्के रखे हुए हैं।

यहाँ पर पर्यटन के स्थानों की कोई कमी नहीं है जो भी यहाँ पर घूमने के लिए आता है तो बस यही का होकर रह जाता है आप जब यहाँ पर घूमने के लिए अपने साथियों या परिवार के साथ आयेगे तो जब वापस घर जायेगे काफी दिनों तक यही के बारे बाते करेगे यहाँ पर जवाई बांध,ओम बन्ना मंदिर आदि पर्यटन के स्थान है

मशहूर स्थानीय भोजन पाली का

पाली में आकर आपने अगर यहाँ के भोजन का स्वाद नहीं लिया तो आपका पाली आना अधूरा रहेगा क्योकि यहाँ पर पर्यटकों के लिए स्ट्रीट फूड बहुत मशहूर है।, जोधपुर अपने लिप स्मैकिंग स्ट्रीट और क्लासिक डाइनिंग रेस्टोरंट के लिए भी जाना जाता है। यहां कई तरह के व्यंजन जैसे मिर्च के साथ करी, राब, दाल-बाटी चूरमा, आटे का हलवा, लप्सी, बादाम हलवा, बाजरे का सोगरा, काबुली, चंदलिया सब्जी और काचरा मिर्चा सब्जी बहुत प्रसिद्ध है जिनका स्वाद आपकी जीभ पर हमेशा यहाँ की याद दिलाता रहेगा

पाली जाने का रास्ता

पाली भारत के काफी शहर है जो ट्रेन द्वारा अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। पाली मारवाड़ रेलवे स्टेशन है जो यहाँ मैन है बाद में आप टेक्सी या ट्रेन की मदद से स्थान तक जा सकते है लगभग 3.7 किलोमीटर की दूरी पर बना है पाली जोधपुर से सिर्फ 70 किलोमीटर दूर है। फिर पाली से आप टेक्सी करके जा सकते है हवाई मार्ग से पाली जाना बेहद आसान है 72 किलोमीटर दूर बना हवाई अड्डे से आप बस या टैक्सी की मदद से पाली की यात्रा पूरी कर सकते है

Rajasthan