इन जगहों का उगता सूरज देता है अनोखा : समुद्र के किनारे अगर लेना है डूबते सूरज को देखने का मजा तो आइये कोवलम..

दक्षिण भारत के केरल में कोवलम खूबसूरत बीच और ताड़ के पेड़ों के लिए मशहूर पर्यटन स्थल है कोवलम पर्यटन में एक अंतर्दृष्टि 17 किमी लंबी समुद्र तट के क्षेत्र में फैला, कोवलम तीन आसन्न समुद्र तटों का एक समूह माना जाता है जो बहुत अच्छा और ,सुन्दर बीच होने के साथ साथ प्राकृतिक दृश्यावली और वाटर स्पोट्र्स की गतिविधियां भी बड़ी संख्या में सैलानियों को कोवलम बुला ही लेता है तभी तो यहाँ पर पूरे वर्ष में लाखो पर्यटक आते है और सुन्दर सुन्दर द्रश्यो को देखकर अपना टूर यादगार बनाते है | सब कुछ सुरम्य और रमणीय के साथ सर्वश्रेष्ठ है, इसमें कोई संदेह नहीं है कि कोवलम सुनहरी रेत और आसपास के सुरम्य के साथ एक महत्वपूर्ण दृश्य स्थान है।यहाँ सब कुछ बस प्राचीन है और अछूता है

इन जगहों का उगता सूरज देता है अनोखा : समुद्र के किनारे अगर लेना है डूबते सूरज को देखने का मजा तो आइये कोवलम..

साथियों कोवलम दक्षिण भारत के केरल राज्य मे बना शहर है जिसका इतिहास भी बहुत ही रोमांचक है और पौराणिक भी है यहाँ की सबसे ख़ास बात यह है की यहाँ पर शिक्षा के स्थान बहुत है और यहाँ की शिक्षा के बहुत ही अलग नियम कानून होते है यहाँ पर परिकल्पना को साकार रूप देने के लिए भारत सरकार ने यहाँ पर १९७० में यहाँ का इतिहास शिक्षा को लेकर बहुत बढता चला गया था तथा दक्षिण भारत मे हर तरह की भाषा बोली जाती है और यहाँ के थोडे थोड़ी दूरी पर बाज़ार और पर्यटन के बगीचे और फूलो से बनी छोटो छोटी मेढे है जो यहाँ पर लोगो को दक्षिण भारत के नवं संस्करण प्रकाशित करते है आप यहाँ पर कही संमुन्दर तो कही पर हरे भरे उपजाऊ भूमि और कही पर कल छल वाली नदिया और यहाँ पर महाकाव्य और रामायण का अध्यन बहुत ही शालीनता से यहाँ के लोग करते है |

अपने आप मे सबसे चमकता हुआ शहर है कोवलम और यहाँ की ख़ूबसूरती यह मदमस्त मौसम वाला शहर तिरुवनंतपुरम से 15 किलोमीटर दूर है और यहाँ के सबसे सुन्दर बीच को देखने के लिए यहाँ पर यहाँ का समुन्द्र तट कहा जाता है और यहाँ की अद्भुत सी तट रेखा यहाँ को और भी प्राचीन बना देती है और यहाँ पर हर समय हर मौसम मे लोगो का जमावड़ा रहता है और यहाँ की सबसे यहाँ समुन्द्र पर हल्की सिरकने वाली रेत है और यहाँ पर बना लाइट हाउस कोवलम को पूरी दुनिया में लोगो को भाता है और पहले इसका नाम ईव तट' और दूसरा 'लाइट हाउस तट' के नाम से लोग जानते थे यहाँ पर अपनी कला से ही लोग यहाँ पर बाज़ार लगते है और फिर यहाँ पर लोग हाथ से बनी बस्तुए खरीदते है आपको यहाँ पर थोड़ी दूर पास मे ही आपको कुछ मछुआरों की बस्ती दिखाई देगी| अब बदलते समय के साथ यह बस्तिया होटल का रूप लेती जा रही है |

और क्या है यहाँ खास

यहाँ पर आप यात्रा के साथ साथ सर्फिंग सनबाथिंग तैराकी बीच वॉलीबॉल जैसी गतिविधियों का आनंद ले सकते है| यहाँ का पानी हल्का नीला न एक्वामेरीन है | यहाँ के ज्यादातर बीच बने है जैसे यहाँ का हवा बीच यह बीच यहाँ पर आने वाले पर्यटकों का मन मोह लेता है यहाँ पर यूरोप की महिलाये सुनबथिंग का आनंद लेती है| आप इस सुन्दर हवा तट के किनारे ललीज व्यंजन का भरपूर स्वाद ले सकते है | यहाँ से की थोड़ी दूर पर हवा तट के बाद यहाँ पर समुंद्र का बीच है जहाँ पर देखना काफी रोचक होता है और सागर की दुरी का पता भी यही से चलता है लेकिन यहाँ का कुछ भाग चट्टानों से बना है इसलिए यहाँ पर आप स्नान का नहीं कर सकते है | यहाँ पर कृत्रिम ऑफ-शोर केरल रीफ है जहा पर प्रकिर्तिक द्रश्यो का खजाना है और जो यहाँ पर देखने लायक जगह है| यहाँ पर एक अद्भुत परियोजना है | जो यहाँ पर केरल सरकार द्वारा हार्बर इंजीनियरिंग विभाग है|और यहाँ पर लोग सर्फ़िंग के लिए ज्यादा आते है

क्या है यहाँ का खाना ख़ज़ाना

यहाँ पर सबसे प्रसिद्ध एक जर्मन बेकरी है जो यहाँ पर सभी को सबकी पसन्द का स्वाद भरा खाना और मनपसंद नाश्ता देती है और वो भी बहुत उचित दामों पर यहाँ का पैन केक जिसे लोग बहुत मन से खाते है| यहाँ मलाईदार मिल्कशेक कॉफी पेस्ट्री मसालेदार पिज्जा खा कर आप कहेंगे भाई एक और आर्डर कर देते है तो दोस्तों अगर आप अपनी छुट्टियों को मजेदार बनाने के लिए यहाँ पर घूमने का प्लान जरूर बनाये |

इन जगहों का उगता सूरज देता है अनोखा : समुद्र के किनारे अगर लेना है डूबते सूरज को देखने का मजा तो आइये कोवलम.. क्यों जाए

आप कोवलम में गतिविधियों में समुद्र तट पर शिविर लगाना, धूप सेंकना, कैनोइंग, कयाकिंग समुन्द्र के किनारे बैठ कर बाते करना, परिवहन व्यवस्था और रेस्तरां आदि का लुफ्त ले सकते है |