संस्कृति और विरासत का गवाह आगरा का ताजमहल : जानते है ताजमहल के बारे मे कुछ अनोखे तत्थ्य ..

अगर आप सुंदर राजाओ महाराजो की इमारतो और हमारी संस्कृति और विरासत को देखने का शौक रखते है तो आप अपनी हिन्दू समाज की सबसे आनोखी विशाल और प्रसिद्ध खूबसूरती को देखने का प्लान बनाये ये स्थल वाकये में बहुत मनमोहक और पैसे बसूल साबित होगा और आप कहेंगे क्या बात है बॉस ..

आगरा 

आगरा एक मन को लुभा लेने वाला शहर है जहा हमें अपनी पुरानी और प्यारी इमारतो को देखने को मिलता है पहले इसको अग्रवन के नाम से भी जाना जाता था फिर बाद में आगरा को सोलवी सदी के लोधी वंश के राजाओ ने वहा के किलो इमारत कुओ और वहा की मुस्लिम लोगो की माजिद और कई नए इमारतो को बनाया | फिर थोरे दिन बाद उनके पुत्रो नै वहा पर लगभग 9 वर्ष तक वहा राज्य किया फिर वहा पर शेरशा सूरी ने अपना विचार सुनाया और यह फिर हमारा आगरा शहर मुग़ल शासको की राजधानी बना| कुछ लोगो ने इसको अक्बर्बाद भी इसका नाम रख दिया यह नाम मराठा शासन काल मे ज्यादा लिया गया यहाँ सभी धर्म के लोगो के देखने लायक इमारते है

हमारे इतिहास का गवाह आगरा का ताजमहल

सबसे विशाल और मुग़ल बादशाह के द्वारा अपनी बेगम शाहजहां की याद मे बने और हमारे भारत मे सुंदर और लोकप्रिय आगरा का ताज महल जो सभी घुमने के स्थानों मे से एक है जहा मौसम कोई भी कैसा भी हो वहा घुमने का अपना अलग ही मज़ा है यहाँ भारत से बाहर से विदेशी लोग भी यहाँ की सुन्दरता को देखने आते है आगरा के  ताजमहल ने आगरा की खूबसूरती मे चार चाँद लगा दिए है | और आगरा भी इस प्रसिद्ध इमारत की वजह से ही इसका नाम पूरे देश मे फैला हुआ है यह संसय लोकप्रिय पर्यटन स्थल है इस इमारत ने एक अपने आप मे नयी कहानी बनायी है यह महल सफ़ेद त्रिकोर है| इसकी सुन्दरता को देखकर लोग उसी मे खो जाते है और इसको प्रेम का प्रतिक भी कहा जाता है इसको शाहजहा ने अपनी सुंदर पत्नी मुमताज की याद मे बनवाया था शाहजहाँ की कई पत्नियाँ थीं जिन्हें भी उसी परिसर में दफनाया गया था लेकिन यह मुमताज़ की पसंदीदा पत्नी थी। तो निर्माण के पीछे एक रोमांटिक और दुखद कहानी है जिसे इतिहास में सबसे रोमांटिक इशारों में से एक के रूप में नामित किया गया है। 

 जब आप आगरा का नजारा  देखिगे तो बस आपका मन वही रहने का  करेगा क्योकि वहा ताज महल तो अपने अपने आप एक खूबसरती है ही उसके साथ वहा की और प्यारी राजाओ रानियों की इमारते भी है यहाँ वास्तु कला का गहना वहा का सुंदर आगरा फोर्ट है और अकबर सम्राट का बना फतेपुरसिकरी और वहा का प्रसिद्ध आगरे का पेठा पूरे देश में जाना जाता है

ताजमहल के बारे में तथ्य

  • यह अनुमान है कि निर्माण परियोजना में 22000 मजदूर और 1000 हाथी थे
  • मकबरे पर गिरने से रोकने के लिए खंभे बाहर की ओर गिरने के लिए बनाए गए थे
  • 8 मिलियन से अधिक आगंतुक ताजमहल की प्रशंसा करने के लिए यहां आते हैं जो भारत में सबसे प्रसिद्ध स्थल है
  • मुमताज और मोगुल सम्राट शाहजहाँ दोनों को क्रिप्ट के अंदर दफन किया गया है
  • समाधि को खत्म करने में 20 साल लग गए
  • यह हर शुक्रवार को बंद रहता है और केवल मुस्लिम जो यहां प्रार्थना में भाग लेने के लिए आते हैं उन्हें दोपहर में अनुमति दी जाती है
  • कहा जाता है कि मुगल बादशाह ने ताजमहल के निर्माण के लिए लगभग 32 मिलियन रुपये खर्च किए थे। यदि आप आज के मूल्य के साथ उस राशि की गणना करते हैं तो यह 1 बिलियन अमरीकी डालर के करीब होगा।
  • अगर यह यमुना बैंक पर स्थित नहीं होता तो लकड़ी की नींव ध्वस्त हो जाती जिसने सदियों तक इसे मजबूत और नम बनाए रखने में मदद की
  • यह बुरहानपुर में बनाया जाना था जहाँ शाहजहाँ की प्यारी पत्नी मुमताज़ की मृत्यु हो गई। लेकिन जब निर्माण की योजना बना रही थी तो बुरहानपुर में पर्याप्त सफेद संगमरमर की आपूर्ति करना संभव नहीं था इसलिए आगरा में ताजमहल बनाने का निर्णय लिया गया जहां यह अभी भी प्रमुखता से खड़ा है
  • 2007 में दुनिया भर के लोगों ने दुनिया के नए सात अजूबों में से एक के रूप में ताजमहल को वोट दिया। यह एक पहल थी जिसे शुरू किया गया था क्योंकि चेप के पिरामिड को छोड़कर दुनिया के सभी पुराने चमत्कार नष्ट हो गए थे। 
  • 1983 से इसे यूनेस्को द्वारा विश्व विरासत स्थल के रूप में मान्यता दी गई है। 

ताजमहल के बारे में सामान्य तथ्य

यहां कुछ और सामान्य जानकारी दी गई है जो यह जानना दिलचस्प हो सकता है कि क्या आप ताजमहल के तथ्यों की तलाश में हैं। 

निर्माण का वर्ष : 1632 से 1653 तक।

सामग्री : सफेद संगमरमर।

भवन की लागत : ~ 32 मिलियन भारतीय रुपए। 

निर्माण: शाहजहाँ (मोगुल सम्राट) द्वारा 

वास्तुकार : उस्ताद अहमद लाहौरी।

स्थान : आगरा उत्तर प्रदेश भारत।

प्रवेश शुल्क : विदेशियों के लिए 1000 रुपये।

वार्षिक पर्यटक : 7-8 मिलियन लोग।